जासं, हाथरस: शासन स्तर से पंचायत चुनाव की ड्यूटी के दौरान कोरोना संक्रमण से हुई कार्मिकों की मौत का ब्योरा एकत्रित कर लिया गया। 20 लोगों की कोरोना से मौत होने की बात सामने आई थी, मगर इनमें पांच कर्मचारी ऐसे हैं, जिनकी कोरोना से मौत होने की बात की पुष्टि नहीं हो पा रही है। इसलिए इनके पर्चे और हुए उपचार के बारे में पूरी पड़ताल की जा रही है। मुख्य विकास अधिकारी आरबी भास्कर के अनुसार शासन ने जिला प्रशासन को निर्देश दिए थे कि कोरोना से हुई कार्मिकों की मौत का पूरा ब्योरा निर्धारित प्रारूप में विभाग वार भेजा जाए। इस क्रम में सभी विभागाध्यक्षों को निर्देश दिए थे। सात जून को 20 कर्मचारियों की मौत कोरोना से होने की बात सामने आई। मगर इनमें पांच लोगों के आए कागजात की प्रथम दृष्टया पड़ताल करने पर कोरोना से मौत की पुष्टि नहीं हो पा रही है। ऐसे में पांचों केसों की सीएमओ को पड़ताल के लिए कहा गया है, ताकि शासन को वस्तुस्थिति से अवगत कराया जा सके। एसपी ने परखी साप्ताहिक कोरोना क‌र्फ्यू की हकीकत

संस, हाथरस: कोरोना संक्रमण का खतरा अभी टला नहीं है। शनिवार व रविवार को साप्ताहिक कोरोना क‌र्फ्यू रहता है। लेकिन लोग कोरोना क‌र्फ्यू में लगातार लापरवाही बरत रहे हैं। रविवार दोपहर को पुलिस अधीक्षक ने शहर के प्रमुख बाजारों में पैदल मार्च कर कोरोना क‌र्फ्यू की हकीकत देखी।

पुलिस अधीक्षक विनीत जायसवाल ने शहर क्षेत्र के तालाब चौराहा, कमला बाजार, पंजाबी मार्केट, रामलीला मैदान, सासनी गेट चौराहा क्षेत्रों में पैदल मार्च कर भ्रमण किया।

एसपी ने लोगों को बताया कि कोरोना का संक्रमण अभी पूरी तरह से समाप्त नहीं हुआ है। संक्रमण की रोकथाम के लिए साप्ताहिक कोरोना क‌र्फ्यू का शतप्रतिशत अनुपालन करें।

Edited By: Jagran