जासं, हाथरस : यूपी बोर्ड परीक्षाएं शुरू होने से पहले परीक्षा केंद्र संचालकों की मनमानी शुरू हो गई है। वे जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय को भी समय पर कक्ष निरीक्षकों का विवरण समय पर उपलब्ध नहीं करा रहे हैं।

जनपद में यूपी बोर्ड की परीक्षा के लिए 92 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं।

कई परीक्षा केंद्र संचालक ऐसे हैं, जो कक्ष निरीक्षकों की सूची उपलब्ध नहीं करा रहे हैं। उधर, यह भी शिकायतें मिल रही हैं कि परीक्षा केंद्र संचालक परीक्षार्थियों से प्रयोगात्मक परीक्षा के नाम पर रुपये मांग रहे हैं। 250 रुपये मांग रहे हैं। आने वाले समय में प्रवेशपत्र का भी हौवा दिखाया जा रहा है। कोविड की गाइडलाइन पालन कराना चुनौती

जनपद में कुछ परीक्षा केंद्र ऐसे हैं, जहां कोविड की गाइड लाइन पालन करने के लिए परीक्षार्थियों को दूर बैठाने और पर्याप्त कमरों की व्यवस्था नहीं है। कोविड की गाइड लाइन पालन कराने के लिए इस बार पिछली साल की तुलना में 18 परीक्षा केंद्र अधिक बनाए गए हैं। पिछली साल 74 परीक्षा केंद्र बनाए गए थे। इस बार 92 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। इंसेट

आलू की खोदाई में लगे परीक्षा केंद्र संचालक

सादाबाद औस सासनी क्षेत्र में परीक्षा केंद्र संचालक किसान भी हैं। उन्होंने भी आलू की खेती की है। आजकल वे आलू की खोदाई में लगे हुए है। वे परीक्षा की तैयारियों से ज्यादा आलू की खोदाई को तरजीह दे रहे हैं। परीक्षा केंद्र संचालक समय पर कक्ष निरीक्षकों की सूची समय पर उपलब्ध नहीं करा रहे हैं। परीक्षार्थियों और अभिभावकों पर दबाव बनाने वाले परीक्षा केंद्र संचालकों की शिकायत मिलने पर कार्रवाई की जाएगी।

रीतू गोयल, जिला विद्यालय निरीक्षक

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप