जागरण टीम, हाथरस : जिले के तीन ब्लाकों में निर्विरोध ब्लाक प्रमुख चुने जाने के बाद शेष चार ब्लाकों में आज मतदान होगा। चारों ही ब्लाकों में भाजपा की सपा और निर्दलीय प्रत्याशियों के बीच कांटे की टक्कर के आसार हैं। सिकंदराराऊ में तीन नामांकन भरे गए हैं। हसायन में भरे गए तीन नामांकनों में से सुमंत किशोर की पत्नी निर्दलीय प्रत्याशी श्वेता सिंह की देवरानी बबली ने शुक्रवार को पर्चा वापस ले लिया है। सासनी और हाथरस में भाजपा प्रत्याशियों का निर्दलीय दावेदारों से कड़ा मुकाबला होने के आसार हैं।

विधायक की पुत्रवधु के सामने चुनौती

सासनी: सासनी में सदर विधायक हरीशंकर माहौर की पुत्रवधु प्रतिभा कमल माहौर भाजपा समर्थित प्रत्याशी हैं। उन्हें निर्विरोध ब्लाक प्रमुख बनाने की कोशिशें नाकाम हो गईं। शुक्रवार को उनके खिलाफ पर्चा दाखिल करने वाली आशा देवी ने अपना पर्चा वापस नहीं लिया। आज दोनों के बीच कांटे का मुकाबला होने के आसार हैं। शाम तीन बजे तक पर्चा वापस होने के कयास लगाए जाते रहे, लेकिन नामांकन वापस नहीं हुआ है। चर्चा है कि आशा देवी को भाजपा का ही दूसरा खेमा सपोर्ट कर रहा है। ऐसे में यहां चुनाव दिलचस्प होने के आसार हैं।

रुखसाना-पूनम पांडे में होगी टक्कर

हाथरस में भाजपा से रुखसाना रानी ने नामांकन दाखिल किया है। उनके सामने पूर्व ब्लाक प्रमुख अमर सिंह पांडे की पत्नी पूनम पांडे निर्दलीय मैदान में हैं। दोनों ही खेमे बहुमत से अधिक सदस्य होने का दावा कर रहे हैं। आज चुनाव में साफ हो जाएगा कि जीत का ताज किसके सिर बंधेगा।

सिकंदराराऊ में भाजपा-सपा के बीच कश्मकश

सिकंदराराऊ ब्लाक प्रमुख चुनाव के लिए तीन उम्मीदवार मैदान में हैं। शुक्रवार को नाम वापसी का दिन था लेकिन किसी भी उम्मीदवार द्वारा अपना नामांकन पत्र वापस नहीं लिया गया। वैसे तो भाजपा प्रत्याशी अजय प्रताप सिंह और सपा प्रत्याशी सुदामा देवी तथा निर्दलीय उम्मीदवार राजेश कुमार चुनाव मैदान में हैं, लेकिन मुख्य मुकाबला भाजपा और सपा प्रत्याशियों के बीच ही माना जा रहा है। दोनों ही खेमे जीत के लिए पूरी कोशिश कर रहे हैं।

भाजपा के धमर्ेंद्र और निर्दलीय श्वेता के बीच मुकाबला

हसायन: ब्लाक प्रमुख पद को लेकर भरे गए तीन में से एक नामांकन वापस ले लिया गया है। यहां भाजपा प्रत्याशी धीरेंद्र प्रताप सिंह उर्फ पीलू और पूर्व ब्लाक प्रमुख श्वेता सिंह के बीच सीधा मुकाबला होगा। श्वेता सिंह की देवरानी बबली ने अपना पर्चा वापस ले लिया है। मगर दोनों ही पक्ष क्रास वोटिग को लेकर चिंतित दिखाई दे रहे हैं। इसके लिए दोनों पक्षों द्वारा अपने पक्ष में मतदान कराने के लिए भरसक प्रयास किए जा रहे हैं।

रामेश्वर, रामकिशन और डा. रीता को मिले प्रमाण पत्र: मुरसान, सादाबाद और सहपऊ ब्लाक पर एक मात्र नामांकन करने वाले दावेदारों को निर्विरोध ब्लाक प्रमुख घोषित किया गया है। तीनों प्रत्याशियों को शुक्रवार को जिलाधिकारी रमेश रंजन ने प्रमाण पत्र सौंप दिए।

मुरसान ब्लाक में पूर्व मंत्री रामवीर उपाध्याय के अनुज एवं भाजपा समर्थित प्रत्याशी रामेश्वर उपाध्याय ने नामांकन दाखिल किया था। उनके सामने पूर्व विधायक देवेंद्र अग्रवाल के भतीजे अतुल कुमार ने पर्चा भरा था। उनकी प्रस्तावक सुमन देवी निवासी सुसावली थीं। शाम को प्रस्ताव सुमन देवी ने सहायक निर्वाचन अधिकारी एससी दीक्षित के पास एक शपथ पत्र दिया। इसमें कहा कि उन्होंने किसी का समर्थन नहीं किया है। उन्हें जबरन यहां लाकर प्रस्तावक बनाकर खड़ा कर दिया। जांच के बाद अतुल कुमार का नामांकन अस्वीकार्य कर दिया गया और रामेश्वर उपाध्याय को निर्विरोध निर्वाचित कर दिया गया। इधर सादाबाद में ब्लाक प्रमुखी के लिए सपा-रालोद समर्थित प्रत्याशी डा. रीना चौधरी ने एक मात्र नामांकन किया था। वहीं सहपऊ ब्लाक के वार्ड संख्या 20 से निर्विरोध बीडीसी बने रामकिशन निर्दलीय ब्लाक प्रमुखी का पर्चा भरा था। उनके सामने भी किसी ने नामांकन पत्र दाखिल नहीं किया। ऐसे में तीनों को निर्विरोध ब्लाक प्रमुख निर्वाचित किया गया है। डीएम रमेश रंजन ने तीनों को शुक्रवार को प्रमाणपत्र सौंपा। डा. रीना के साथ सपा के पूर्व विधायक देवेंद्र अग्रवाल, पूर्व विधायक प्रताप चौधरी समेत सपा-रालोद के नेता मौजूद रहे।

Edited By: Jagran