संसू, हाथरस : सादाबाद में तीन दिन पहले रात्रि के समय एक बाइक सवार युवक के तेंदुआ दिखने की चर्चा के बाद चीता का वीडियो वायरल हो रहा है। गांव वालों का कहना है कि तेंदुआ गांव के आसपास देखा जा रहा है। लेकिन वन विभाग इसे मानने को तैयार नहीं है।

करीब तीन वर्ष पूर्व कुरसंडा क्षेत्र के गांव तिगड़ी नगला पदम के निकट एक तेंदुए के आने की खबर पर वन विभाग को जानकारी दी गई थी। तब आगरा से आई वाइल्डलाइफ की टीम ने आठ घंटे बाद पीपल के पेड़ पर सबसे ऊपर चढ़े तेंदुए को गिरा कर अपने कब्जे में लिया गया। इस वक्त भी वही हालात उन्हें पैदा हो रहे हैं। तीन दिन पहले आगरा से सादाबाद आते वक्त सादाबाद के कूपा रोड निवासी एक व्यक्ति ने उसे सड़क पार करते हुए देखने की बात कही थी। इसकी जानकारी गीगला के प्रधान रूपेश उपाध्याय को दी गई। प्रधान ने उस समय सतर्कता बरतने के निर्देश दिए थे। हथियारों तथा लाठी-डंडे को लेकर तेंदुए की तलाश भी की गई। लेकिन तेंदुए के पंजे नजर आए, लेकिन तेंदुआ कहीं नहीं मिला। दूसरे दिन पहुंची वन विभाग की टीम ने सर्च अभियान चलाया, लेकिन तेंदुआ नहीं मिला। उसी दिन शाम को कुरसंडा मोड़ पर भी तेंदुआ दिखाई देने की जानकारी ग्रामीणों ने दी। तीसरे दिन यानी शनिवार को बास समरू के निकट भी तेंदुआ दिखने की जानकारी मिली। वन विभाग की टीम अभी भी इसे जंगली जानवर बता रही है। हालांकि बात तेंदुए की हो रही है, लेकिन किसी सिरफिरे ने चीते का फोटो सोशल मीडिया पर डाल दिया, जो वायरल हो रहा है।

Edited By: Jagran