जासं, हाथरस : कोरोना के कारण निजी स्कूल नहीं खुल पा रहे हैं। इससे इन स्कूलों के शिक्षक व कर्मचारी आर्थिक तंगी से गुजर रहे हैं। स्कूल खोलने की मांग को लेकर आल प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन की ओर से रैली निकालकर जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को ज्ञापन दिया गया।

स्कूल संचालकों ने कहा कि वैश्विक महामारी के कारण मार्च 2020 से स्कूल बंद पड़े हैं। इसके कारण शिक्षक व अन्य कर्मचारी आर्थिक संकट के कारण भुखमरी के कगार पर आ गए हैं। सरकार ने बाजार और अन्य व्यावसायिक गतिविधियां शुरू करा दी हैं लेकिन स्कूल नहीं खोले जा रहे हैं। इस संबंध में सरकार ने जल्द ही कोई आदेश जारी नहीं किया तो बच्चों का भविष्य भी चौपट हो जाएगा।

स्कूल न खुलने से नियमित खर्चे भी पूरे नहीं हो पा रहे हैं। शिक्षा सत्र 2020-2021 आरटीई के अंतर्गत आने वाले छात्रों की शुल्क प्रतिपूर्ति शासन द्वारा किसी भी विद्यालय को प्राप्त नहीं हुई है। ज्ञापन देने वालों में एसोसिएशन के अध्यक्ष नीतेश वाष्र्णेय व सचिव रामेश्वर सारस्वत के अलावा स्कूलों के संचालक व शिक्षक मौजूद थे। भुखमरी की कगार पर

बुक स्टोर संचालक

संसू, हसायन : कोरोना महामारी संक्रमण के दौरान सरकार के आदेश पर सभी स्कूल और कॉलेजों को पूर्णत: बंद कर दिया गया था, जिसके बाद से इसका असर स्कूल कॉलेजों में पढ़ने वाले छात्रों की पढ़ाई के साथ-साथ बुक स्टोर संचालकों पर भी पड़ा है। स्कूल-कॉलेज बंद रहने से बुक स्टोर संचालकों की दुकानें ठप हैं। बुक स्टोर संचालकों के कहना है कि उनका परिवार भुखमरी के कगार पर पहुंच गया है।

Edited By: Jagran