जासं, हाथरस : सरकार टैक्स वसूलने के लिए तंत्र को लगातार मजबूत कर रही है मगर दूसरे प्रांतों व जिलों में इधर से उधर माल ले जाने वाले व्यापारी और ट्रक चालक टैक्स चोरी का तोड़ निकालने में जुटे हैं। हाईवे और मुख्य मार्गों पर वाणिज्य कर सचल दल इकाई और टोल टैक्स से बचने के लिए गांवों के रास्तों से वाहन ले जा रहे हैं।

हाथरस जनपद से दो राष्ट्रीय राजमार्ग व एक राजकीय राजमार्ग गुजरते हैं। इसके अलावा राष्ट्रीय राजमार्ग जीटी रोड और राजकीय राजमार्ग मथुरा-बरेली रोड है। इसमें अलीगढ़ और आगरा राष्ट्रीय राजमार्ग पर दो स्थान बरौस और मडराक पर टोल टैक्स लगता है।

अलीगढ़ और आगरा हाईवे से मध्य प्रदेश से आने वाले वाले वाहन आगरा होते हुए पश्चिमी उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड तक माल की ढुलाई करते हैं। इस मार्ग पर वाहनों से सरकार दो रूप में टैक्स लेती है। वाणिज्य कर विभाग की सचल दल इकाई की चेकिंग के साथ टोल टैक्स भी वसूला जाता है। इससे सरकार को लाखों रुपये की रोजाना की कमाई है। टैक्स से बचने के लिए वाहन चालक व व्यापारी हाथरस में इगलास होते हुए मथुरा रोड की ओर गांवों से होकर निकल जाते हैं। यहां पर सचल दल के अलावा मडराक के टोल टैक्स से बचकर टैक्स बचाते हैं। इगलास रोड से मथुरा रोड से बाइपास होकर नांदा पुल होते हुए गाजियाबाद, दिल्ली और मेरठ, मुजफ्फरनगर होते हुए उत्तराखंड की सीमा में निकल जाते हैं।

पकड़े जा चुके हैं वाहन : आगरा से स्क्रैप के अलावा जूता, इलेक्ट्रोनिक्स व इलेक्ट्रिकल्स गुड्स आते हैं। पिछले दिनों इलेक्ट्रोनिक्स और इलेक्ट्रिकल्स के अलावा स्क्रैप का माल जा रहा था। सचल दल और टोल टैक्स से बचने के लिए यह माल ट्रक से इगलास रोड होते हुए अलीगढ़ की ओर ले जा रहा था। टीम ने इन्हें पकड़कर भारी जुर्माना वसूला था मगर यह सिलसिला अब भी जारी है।

Edited By: Jagran