संवाद सहयोगी,हाथरस: सोमवार दोपहर को जिला अस्पताल में भर्ती एक मरीज की मौत हो जाने पर परिजनों ने जमकर हंगामा काटा। आरोप है कि सही उपचार न मिलने के कारण मरीज की मौत हुई। अस्पताल प्रशासन और परिजनों में जमकर नोंकझोंक हुई। पुलिस के पहुंचने पर मामला शांत हो सका। कोरोना के शक में व्यापारी के शव को पीपीइ किट में रखकर पोस्टमार्टम गृह भिजवा दिया।

सीकनापान इलाके के चोर गली निवासी वीरेंद्र वाष्र्णेय पुत्र दौजीराम सर्राफ की तबीयत कुछ दिन से खराब थी। बताते है कि वो हार्ट के मरीज थे। रविवार को तबीयत बिगड़ने पर वो स्वयं आगरा रोड स्थित अग्रवाल सेवा सदन क्वारंटाइन सेंटर में जाकर भर्ती हो गए। जहां रविवार को ही स्वास्थ्य विभाग की टीम ने उनका कोविड 19 का सैंपल ले लिया था। सोमवार को तबीयत में सुधार न होने पर एंबुलेंस के जरिए उन्हें क्वारंटाइन सेंटर से जिला अस्पताल लाया गया। जहां वार्ड नंबर दस में व्यापारी को भर्ती करा दिया गया। दोपहर करीब साढ़े चार बजे अचानक उनकी मौत हो गई। व्यापारी की मौत हो जाने से परिजनों में आक्रोश व्याप्त हो गया। परिजनों का आरोप था कि सही उपचार जिला अस्पताल में नहीं दिया गया। अस्पताल प्रशासन से परिजनों की जमकर नोंकझोंक हुई। इस दौरान अस्पताल में रखे स्ट्रेचर में लात मार दी। हंगामा बढ़ने पर अस्पताल प्रशासन ने पुलिस को सूचना दे दी। सूचना पाकर कोतवाली हाथरस गेट प्रभारी मनोज शर्मा मय पुलिस कर्मियों के मौके पर पहुंच गए। पुलिस ने समझा बुझाकर परिजनों को शांत किया। परिजनों ने तहरीर अस्पताल प्रशासन के खिलाफ इंस्पेक्टर को दी। मामला कोतवाली सदर का होने पर परिजनों को तहरीर देने के लिए कह दिया गया।

पुलिस ने उपलब्ध कराई पीपीइ किट

कोरोना के शक की वजह से शव को पीपीइ किट में रखना था। लेकिन अस्पताल प्रशासन के पास पीपीई किट उपलब्ध नहीं थी। ऐसे में कोतवाली सदर से चौकी प्रभारी मुरसान गेट राजीव कुमार पीपीई किट को लेकर अस्पताल पहुंचे। मृतक के शव को पीपीई किट पहनाई गई और उसे पोस्टमार्टम में रखवा दिया। इनकी सुनो -

तबीयत खराब होने पर व्यापारी को क्वारंटाइन कराया गया था। तबीयत बिगड़ने पर जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां दोपहर को मौत हो गई। मृतक हार्ट व मधुमेह रोग से पीड़िति थे। शव को फिलहाल पोस्टमार्टम ग्रह में रखवा दिया गया है।

- डॉ. ब्रजेश राठौर, सीएमओ,हाथरस। शादी की सालगिराह वाले दिन हुई मौत

व्यापारी की शादी की सोमवार को 34 वीं सालगिराह थी। किसी ने सोचा भी नहीं था कि शादी की सालगिराह वाले दिन वो इस दुनिया को विदा कह देंगे। शादी की सालगिराह वाले दिन मौत हो जाने से परिवारीजनों का रो-रोकर काफी बुरा हाल था।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस