हाथरस : संगरूर (पंजाब) से बदायूं जा रही वृद्धा की शनिवार तड़के सिकंदराराऊ रेलवे क्रॉसिंग से पहले ट्रेन से गिरकर मौत हो गई। वृद्धा शौचालय के लिए सीट से उठी थी। अंधेरे में शौचालय की ओर मुड़ने की बजाय ट्रेन के बाहर कदम रख दिया।

सत्या देवी (80) पत्नी लक्ष्मण राम निवासी गाव वाडिया थाना व जिला संगरूर (पंजाब) अपने पुत्र रंजीत सिंह व पुत्रवधू पुष्पा और गुरमीत कौर के साथ छपरा एक्सप्रेस से बदायूं जा रही थीं। शनिवार सुबह करीब चार बजे वह साथ बैठी सवारी को बताकर शौच के लिए उठीं। अंधेरा होने के चलते उन्हें रास्ता दिखा नहीं और दरवाजे की तरफ पहुंच गई। उनके गिरते ही चीख की आवाज सुनकर यात्रियों को घटना का पता चला। आनन-फानन चेन पुलिंग करके ट्रेन रोकी गई। ट्रेन के तेज रफ्तार होने के चलते वृद्धा की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। सूचना पर पहुंची कोतवाली पुलिस मृतका के शव को सीएचसी पहुंचाया। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। मृतका के पति लक्ष्मण राम मूल रूप से संगरूर के निवासी थे। उन्होंने 35 वर्ष पहले कादर चौक जिला बदायूं में जमीन खरीदी थी। वहां भी घर बना लिया। कुछ वर्ष पहले बदायूं जाते समय खुर्जा के पास हुए सड़क हादसे में उनकी मौत हो गई थी। मृतका के तीन बेटे हैं। घटना की रिपोर्ट तेजराम पुत्र लक्ष्मण राम निवासी वाडिया संगरूर ने दर्ज कराई है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस