संस, हाथरस : जिले में संचालित स्वास्थ्य विभाग के 108, 102 एएलएस एंबुलेंस कर्मचारियों का समायोजन किए जाने की मांग को लेकर तीसरे दिन भी धरना-प्रदर्शन जारी रहा। आरोप लगाया गया कि एएलएस के कर्मचारियों को कंपनी बदलने पर हटाया जा रहा है, जबकि ऐसा नहीं होना चाहिए। कोरोना काल में कोरोना योद्धा की भूमिका में एंबुलेंस कर्मचारी सबसे आगे रहे। एम्बुलेंस कर्मचारियों को ठेकेदारी से मुक्त किए जाने की मांग भी की जा रही है। वहीं कोरोना काल में जान गंवाने वालों के आश्रितों के परिवार को बीमा राशि दिए जाने की भी मांग की गई है। तीन दिन से जिला अस्पताल की इमरजेंसी के सामने धरना प्रदर्शन चल रहा है। संगठन के जिलाध्यक्ष नागेंद्र यादव ने बताया कि 26 जुलाई से पूरे प्रदेश की एम्बुलेंस खड़ी करके कार्य बहिष्कार किया जाएगा। बिजली को लेकर सब स्टेशन पर प्रदर्शन

संसू, पोरा (हाथरस) : एक हफ्ते से आधे गांव में बिजली आपूर्ति बंद होने से ग्रामीण परेशान हैं। अधिकारियों को कई बार शिकायत करने पर भी समस्या का समाधान नहीं हुआ है। आक्रोशित ग्रामीणों ने शनिवार को ग्राम प्रधान देवेंदर कुमार कुशवाह के नेतृत्व में बिजलीघर पोरा पर प्रदर्शन करते हुए धरना दिया।

उपभोक्ताओं ने एसडीओ व अवर अभियंता पर उदासीनता का आरोप लगाते हुए मुख्यमंत्री पोर्टल पर शिकायत की। उसमें कहा है कि एसडीओ व अवर अभियंता सरकार को बदनाम करने का काम कर रहे हैं। बिजली की समस्या का समाधान न होने तक धरना जारी रखने का एलान किया है। ग्राम प्रधान ने कहा कि सुबह से धरने पर बैठे उपभोक्ताओं की समस्या सुनने को भी कोई अधिकारी नहीं आया। इस अवसर पर सुनील सोलंकी, महेशचंद्र, राबिस, मुकेश सोनी, रिकू, पप्पू, शैलेश राघव,चंद्र पाल, राजू थे। एसडीओ हसायन ने बताया कि ट्रांसफार्मर गांव में पहुंच गया है। ग्रामीण दूसरे स्थान पर लगाने की मांग कर रहे हैं, जबकि एस्टीमेट के आधार पर पहले जो ट्रांसफार्मर लगा था, उसी जगह पर लगेगा।

Edited By: Jagran