संवाद सहयोगी, हाथरस : जिले में पर्यावरण संतुलन बनाने और उसे हरा-भरा रखने के लिए दैनिक जागरण की मुहिम 'आओ रोपें अच्छे पौधे' से लोग जुड़ते जा रहे हैं। इसमें सामाजिक, राजनीतिक संगठनों व सरकारी विभाग अभियान को सफल बनाने में तत्परता दिखा रहे हैं। हाथरस के जिला बेसिक शिक्षा विभाग से जुड़े शिक्षक व शिक्षणेतर कर्मी इस अभियान में सहभागिता करेंगे। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने दैनिक जागरण की मुहिम से प्रेरित होकर इसके लिए आदेश जारी कर दिए हैं।

दैनिक जागरण ने वनीवरण का क्षेत्र में प्रसार करने को पौधारोपण अभियान चला रखा है। इस अभियान को जनसमुदाय की ओर से सहयोग भी मिल रहा है। जनहित के कार्य के लिए लोग इससे जुड़ते जा रहे हैं। इस अभियान को आगे बढ़ाने के लिए जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी डा. रिचा गुप्ता ने पौधारोपण के लिए आदेश जारी कर अधीनस्थ अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए हैं।

बढ़ते नगरीकरण और वृक्षों के अवैध कटान के चलते वन क्षेत्र घट रहा है। इसी से वैश्विक महामारी कोरोना काल में आक्सीजन की कमी व प्राकृतिक आपदा देखने को मिल रही है। अब लोगों को भी वृक्षों की कमी कचोट रही है। दैनिक जागरण ने 'आओ रोपें अच्छे पौधे' की मुहिम शुरू की है। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी के दिशा- निर्देशों में जिले के सभी प्राइमरी व जूनियर स्कूलों में अच्छी प्रजाति के दो-दो पौधे अवश्य लगाने के लिए अधीनस्थ कर्मियों को निर्देशित किया गया है। नगर पालिका क्षेत्र में भी पौधारोपण के निर्देश जारी किए गए हैं। इसमें सभी अधिकारी व कर्मचारी पौधारोपण करेंगे। लोगों को जागरूक करने के लिए किए गए पौधारोपण का फोटो अपील सहित सोशल मीडिया पर अपलोड सभी संबंधित कर्मियों द्वारा किया जाएगा। अधिकारियों ने इसके लिए पहले से ही गड्ढे खोदवाकर तैयारी के लिए कहा है।

इनका कहना है

वृक्षों का महत्व सभी को समझना चाहिए। पारिवारिक जीवन में सभी को पौधारोपण कर उसके वृक्ष बनने तक बच्चों की तरह देखभाल करनी जरूरी है। इसका सुखद फल हमें मिलता है।

-रामगोपाल सिंह, किसान वैश्विक महामारी कोरोना में आक्सीजन की कमी कहर बनकर टूटी है। कई लोग जान गवां चुके हैं। हमें वृक्षों का महत्व समझकर पौधारोपण पर जोर देना चाहिए।

- ललित कुमार गौड़, समाजसेवी

फोटो- 12

पर्यावरण संतुलन के साथ आक्सीजन भी देते हैं पौधे

पौधारोपण का उद्देश्य वन क्षेत्र को बढ़ाना है। अवैध कटान से हो रही वृक्षों की कमी को इसी से पूरा किया जा सकता है। वृक्षों से लोगों को रोजगार भी मिलता है। पर्यावरण संतुलन रहने के साथ आक्सीजन की कमी भी पूरी होती है। वर्षाकाल पौधारोपण के लिए अच्छा समय है। इसमें पहले गड्ढे खोदवाकर उसे कुछ दिनों के लिए खुला छोड़ दें। उसके बाद उसमें जैविक खाद डालकर अच्छी प्रजाति के पौधों का रोपण करें। समय-समय पर उसमें पानी देते रहें। सुरक्षा के लिए उसमें ट्री-गार्ड लगा सकते हैं। अधिक जगह होने पर पीपल, बरगद, नीम व शीशम के पौधे लगाने अधिक उचित रहे हैं। वन विभाग वन महोत्सव मना रहा है। इसमें जिले के सभी विभागों के साथ मिलकर करीब 25 लाख से अधिक पौधों का रोपण किया जाएगा।

-वीके सिंह, प्रभागीय वनाधिकारी, हाथरस

Edited By: Jagran