जागरण संवाददाता, हाथरस: जिले में उत्कृष्ट कार्य करने वाली ग्राम पंचायतों को मुख्यमंत्री प्रोत्साहन पुरस्कार योजना के तहत पुरस्कृत किया जाना है। सीडीओ आरबी भास्कर ने सभी बीडीओ और एडीओ पंचायत को निर्देश जारी किए हैं कि सभी ग्राम प्रधानों के जरिये इस पुरस्कार के लिए आनलाइन आवेदन कराए जाएं, मगर अभी तक महज 17 आवेदन मिल सके हैं। इस पर सीडीओ ने गहरी नाराजगी जताई है।

शासन ने मुख्यमंत्री प्रोत्साहन पुरस्कार के मानक तय कर जिले में विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य करने वाली ग्राम पंचायतों को पुरस्कृत करने का मन बनाया। आनलाइन आवेदन मांगे गए। सीडीओ आरबी भास्कर ने सभी एडीओ पंचायत व बीडीओ को निर्देश दिए हैं कि अपने क्षेत्र की ग्राम पंचायतों के ग्राम प्रधानों को इस योजना के बारे में पूरी जानकारी देकर, आवेदन के इच्छुक ग्राम प्रधानों को हरसंभव मदद की जाए, जिससे ज्यादा से ज्यादा संख्या में आवेदन हो सकें। उन्होंने बताया कि आवेदन की अंतिम तिथि 15 अगस्त निर्धारित की गई है। जनपद में 463 ग्राम पंचायतें हैं और सभी पंचायतें पुरस्कार पाने के लिए आन लाइन आवेदन कर सकती हैं, मगर अभी तक महज 17 आवेदन आना बेहद निराशाजनक स्थिति को दर्शाता है। इस संबंध में जिला पंचायत राज अधिकारी जीडी जैन ने सचिवों को दिशा-निर्देश दिए हैं। मनरेगा के कार्यों का सत्यापन करने लखनऊ से आई टीम जागरण संवाददाता, हाथरस : मनरेगा के कामों में लापरवाही बरते जाने को लेकर शासन ने सख्त रुख अख्तियार कर लिया है। अब हर जनपद में मनरेगा के कार्यों की हकीकत जानने के लिए लखनऊ से स्टेट क्वालिटी मानीटर भेजे गए हैं ताकि वे स्थलीय निरीक्षण करके सही रिपोर्ट से शासन को अवगत करा सकें। मंगलवार को मनरेगा के कार्यों का निरीक्षण करने एक टीम आई और सासनी के चार गांवों का भौतिक सत्यापन किया। बुधवार को भी सासनी के कई गांवों का भौतिक सत्यापन करेगी और फिर बाकी ब्लाक में भी भ्रमण का कार्यक्रम रहेगा।

कई दिन रहेगा हाथरस में डेरा

राष्ट्रीय आजीविका मिशन के उपायुक्त अशोक कुमार के अनुसार मंगलवार की सुबह लखनऊ से स्टेट क्वालिटी मानीटर राजनाथ यादव टीम के साथ हाथरस आए और यहां वह स्थानीय अफसरों के साथ कार से सीधे सासनी ब्लाक आए। फिर समामई एवं रुहल, बिर्रा एवं कौमरी ग्राम पंचायत में मनरेगा के कार्यों को देखने के साथ पंचायतघरों के निर्माण को भी करीब से देखा। इस दौरान कुछ दिशा-निर्देश दिए गए। ग्राम्य विकास अभिकरण के परियोजना निदेशक अश्वनी कुमार मिश्रा भी थे। उपायुक्त अशोक कुमार ने बताया कि बुधवार को भी टीम सासनी के जिन चार गांव का दौरा करेगी उनमें बिजाहरी, रुदायन, छौंक और सलेमपुर हैं। इसके बाद बाकी ब्लाकों में भी भ्रमण करेगी।

Edited By: Jagran