जागरण टीम, हाथरस : बुखार और डेंगू का प्रकोप जानलेवा होता जा रहा है। पिछले चौबीस घंटे में दो होमगार्ड सहित आठ लोगों की मौत हो जाने से हाहाकार मच गया। स्वास्थ्य विभाग लगातार हो रही मौतों की वजह जानने और पड़ताल करने में नाकाम साबित हो रहा है। अलबत्ता स्वास्थ्य शिविर लगाकर दवाइयों का वितरण कर खानापूर्ति की जा रही है।

मुरसान क्षेत्र के गांव जैतपुर के रहने वाले जुनेद पुत्र सोनू की बुखार के चलते मौत हो गई। पिता ने बताया की जुनेद दो बहनों के बीच इकलौता पुत्र था। मुरसान के गांव दर्शना के रहने वाले चंद्रपाल शर्मा एडवोकेट की भी आज बीमारी के चलते मौत हो गई। सादाबाद के गांव नगला ध्यान निवासी 50 वर्षीय राकेश देवी की बुखार से मौत हो गई। हालत बिगड़ने पर गुरुवार को सुबह इन्हें आगरा ले जाया गया था जहां उपचार के दौरान गुरुवार रात 11 बजे मृत्यु हो गई। सासनी क्षेत्र के गांव दरकौली में बुखार का प्रकोप बढ़ता जा रहा है। गुरुवार की देर रात को बुखार से पीडि़त 54 वर्षीय चंद्रप्रकाश रावत की मौत हो गई है। चंद्रप्रकाश करीब दस दिन से बुखार से पीडि़त थे। इन्हें उपचार के लिए अलीगढ़ के निजी अस्पताल में स्वजन ले गए थे, जहां गुरुवार की सुबह उन्हें दिल्ली के सफदरगंज अस्पताल में भेजा गया था। उपचार के दौरान उनकी मृत्यु हो गई। हसायन कोतवाली क्षेत्र के गांव मथुरापुर में 35 वर्षीय होमगार्ड इंद्रजीत पुत्र ओमप्रकाश की बुखार से मौत हो गई। इसकी सूचना स्वजन को मिली तो घर पर कोहराम मच गया। सिकंदराराऊ के गांव बरई शाहपुर में वायरल बुखार के चलते मौत का तांडव जारी है। बुखार से गांव में लगातार हो रही मौतों से ग्रामीण खासे भयभीत हैं। शुक्रवार को बुखार पीड़ित एक 58 वर्षीय वृद्धा हरिप्यारी देवी को उपचार के लिए स्वजन अलीगढ़ ले जा रहे थे। उसी दौरान वृद्धा ने रास्ते में दम तोड़ दिया। जिससे स्वजनों में कोहराम मच गया। गांव में एक सप्ताह में बुखार के चलते अब तक नौ मौतें हो चुकी हैं। शहर के आगरा रोड स्थित नगला भोजा निवासी होमगार्ड दिनेश कुमार को बुखार और पेट दर्द होने पर स्वजन अलीगढ़ के एक निजी अस्पताल में ले गए, जहां देर रात्रि को होमगार्ड की मौत हो गई। थाना हाथरस गेट की विष्णुपुरी कालोनी निवासी नंदन लाल (45) कई दिन से बुखार से पीड़ित थे। गुरुवार रात हालत बिगड़ी तो स्वजन बागला अस्पताल लेकर आए यहां डाक्टरों ने उसको मृत घोषित कर दिया।

Edited By: Jagran