संवाद सहयोगी, हाथरस : कड़ाके की ठंड ने जीना दुश्वार कर दिया है। तीन दिन से सूर्यदेव के दर्शन नहीं हो रहे हैं। गलन का सितम बढ़ता जा रहा है। पूरे दिन शीतलहर से लोगों की जिदगी ठिठुर सी गई है। बढ़ती गलन के चलते बड़ी संख्या में लोग बीमार हो रहे हैं। सर्दी-जुकाम और खांसी के मरीज बढ़ गए हैं।

जनवरी शुरू होते ही सर्दी का सितम बढ़ गया। कुछ दिन पहले हुई बारिश के बाद तो मौसम काफी बदल गया। जबरदस्त ठंड से हर कोई परेशान है। गलन के चलते हाथ-पैर भी धीमी गति से काम रहे हैं। पूरे दिन शीतलहर चलने से जनजीवन पर व्यापक असर पड़ा है। इंटरनेट मीडिया के मुताबिक अभी कुछ दिन मौसम ऐसा ही रहेगा। नहीं दिखी धूप, चलती रही शीतलहर

पश्चिमी विक्षोभ के कारण लगातार मौसम बिगड़ रहा है। सोमवार को भी मौसम सबसे अधिक सर्द रहा। कोहरा व बादलों की ओट में सूर्यदेव के छिपे रहने से पूरे दिन धूप नहीं निकली। सर्दी से बचने के लिए लोगों ने अलाव का सहारा लिया। घरों में रूम हीटर जलाए जा रहे हैं। अधिकतम 19 व न्यूनतम तापमान नौ डिग्री सेल्सियस रहा। दुकानदारों ने जलाए अलाव

संसू, सहपऊ : सर्दी से बचने को लोगों को अलाव का सहारा लेना पड़ रहा है। व्यापारियों ने दुकानों पर रूम हीटर व लकड़ियां जलाकर सर्दी से बचने का प्रयास किया। सोमवार को मां भद्रकाली के दर्शन करने आए श्रद्धालुओं के चलते बाजार में रौनक रही। दुकानदारों द्वारा जलवाए गए अलाव राहगीरों को राहत दे रहे थे। नगर पंचायत नें नहीं जलवाए अलाव

संसू, हसायन : नगर पंचायत ने भीषण सर्दी में भी अलाव नहीं जलवाए। इससे परेशान दुकानदारों को खुद के खर्चे पर अलाव की व्यवस्था करनी पड़ी। ठिठुरन से बचने को अलाव राहगीरों के लिए सहारा बने हुए हैं। सासनी में व्यापारियों ने बांटे कंबल

संसू, सासनी : अखिल भारतीय उद्योग व्यापार मंडल के कार्यकर्ताओं ने सड़क के किनारे बैठे जरूरतमंदों एवं असहाय लोगों को कंबल वितरित किए। कड़ाके की ठंड को देखते हुए व्यापार मंडल ने यह कदम उठाया। इसमें विपुल लुहाड़िया, डा.विकास सिंह, निशांत वाष्र्णेय, देवेश गर्ग,जीतू सक्सेना, नरेश वाष्र्णेय, गौरव सिगल, विकास अग्रवाल, अजय जैन, प्रभात वाष्र्णेय, आकाश वाष्र्णेय, राजकुमार अग्रवाल, दीपक शर्मा, उत्तम वाष्र्णेय, विनोद वर्मा, ध्रुव शर्मा मौजूद थे। पाले से आलू फसल में

ब्लाइट का खतरा बढ़ा

संस, हाथरस : इन दिनों पड़ रही जबरदस्त ठंठ व पाले से फसलों पर भी रोगों का खतरा बढ़ गया है। बढ़ती सर्दी से पाला रबी की फसलों को नुकसान पहुंचा रहा है। ब्लाइट से आलू की फसल बर्बाद हो सकती है।

गेहूं, मटर व सब्जियों की फसलों में रोग पनपने लगे हैं। सरसों की फसल में माऊं रोग बढ़ गया है। आलू की फसल पर ब्लाइट रोग का खतरा बढ़ गया है। कई दिन से धूप नहीं निकल रही है। पूरे दिन फसलों से ओस की बूंदें टपकती रहती हैं। इससे किसानों ने खेतों में काम करना भी बंद कर दिया है। रात में बेसहारा पशुओं से फसलों की रखवाली करनी पड़ रही है। सादाबाद, सासनी व सिकंदराराऊ तहसील में भी गलनभरी सर्दी से किसानों की मुश्किलें बढ़ गई हैं।

Edited By: Jagran