संवाद सहयोगी, हाथरस : जिले में मंगलवार की दोपहर जबरदस्त बारिश हुई। करीब एक घंटे की बारिश शहर में लोगों के लिए आफत बन गई। जगह-जगह हुए जलभराव से राहगीर व वाहन चालकों का निकलना मुश्किल हो गया। बारिश ने नगर पालिका के सफाई अभियान की भी पोल खोल दी।

मंगलवार की सुबह तेज धूप खिली थी मगर दोपहर करीब एक बजे अचानक बादल घिर आए। दोपहर में शाम का नजारा दिख रहा था। बिजली की तड़तड़ाहट के साथ मूसलधार बारिश शुरू हो गई। करीब एक घंटा तक जमकर बारिश हुई जिससे चारों ओर पानी ही पानी दिखने लगा। हालांकि बाद में रुक-रुक कर हल्की बारिश व बूंदाबांदी शाम से लेकर रात तक होती रही।

बारिश के थमने के बाद नालियों में उफान से सड़कें लबालब थीं। जगह-जगह नालियों के चोक होने से भी सड़कों पर पानी भर गया। सफाई व्यवस्था पर लाखों रुपये खर्च करने के बाद भी शहर में जलभराव की समस्या से दूर नहीं हुई। बारिश ने पालिका के सभी दावों को धोकर रख दिया। जलमग्न हुए गली-मुहल्ले

बारिश में शहर हर बार जलभराव की समस्या को झेलता है। इस बार भी बारिश से कोतवाली सदर, पुराना एसपी आफिस, नया नगला, गंगानगर, महादेव नगर, सोखना रोड, नवीपुर, विभवनगर, बालापट्टी, श्रीनगर, पत्थरवाली मार्ग सहित कई इलाकों में जलभराव हो गया।

रोकी राहगीरों की राह : मूसलधार बारिश ने एक घंटे के लिए सड़कों को भी सूना कर दिया था। तेज हवाओं के साथ हो रही बारिश के चलते सड़कों पर वाहन चलाना मुश्किल हो गया था। दोपहिया व बड़े वाहनों को चालक सड़क सहारे रोककर खड़े हो गए थे। बारिश हल्की होने पर ही वाहन चालक आगे बढ़े। शहर में कई जगह टूटी नालियों की पुलिया के कारण कई जगह गाड़ियां गढ्डों में फंसकर पलट गईं। कुछ लोग घायल भी हुए हैं।

सुहावना हुआ मौसम : पिछले दो दिनों से उमसभरी गर्मी ने लोगों को परेशान कर रखा। मंगलवार को बारिश से पहले अधिकतम तापमान 36 डिग्री व न्यूनतम तापमान 28 डिग्री सेल्सियस रहा। बारिश के बाद तापमान में गिरावट देखी गई। तेज हवाओं के चलने से मौसम सुहावना हो गया। इससे लोगों को काफी राहत मिली। शाम को लोग घरों से बाहर आकर मौसम का आनंद लेते दिखे। देहात में मिला-जुला

रहा बारिश का असर

सादाबाद में भी जमकर बारिश हुई। इससे विनोबानगर, जवाहर बाजार आदि इलाकों में जलभराव होने से लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ा। सासनी में बारिश से ब्लाक, तहसील सहित कई इलाकों में जलभराव हो गया। वहीं सिकंदराराऊ, सहपऊ सहित कई क्षेत्रों हल्की बारिश हुई। इनका कहना है-

शहर में जलभराव की समस्या पालीथिन फंसने से होती है। इसके लिए लोगों को पालीथिन का प्रयोग रोकना होगा। पालिका द्वारा जल निकासी की व्यवस्था के लिए जलभराव वाले स्थानों का सर्वे कराया जा रहा है। जल्द ही इस समस्या से शहर वासियों को मुक्ति मिल जाएगी।

-अनिल कुमार, ईओ नगर पालिका हाथरस

Edited By: Jagran