संवाद सहयोगी, हाथरस : सावन के दूसरे सोमवार पर शिवालयों में सुबह से शाम तक श्रद्धालुओं की भीड़ रही। सुबह जलाभिषेक के लिए लंबी कतारें लगीं। कोविड की गाइड लाइन का पालन करते हुए पूजा-अर्चना की गई। मंदिर परिसर हर-हर महादेव के जयकारों से गुंजायमान थे।

सावन शिव के प्रति श्रद्धा प्रकट करने का विशेष महीना है। यह माह शुरू होते ही धार्मिक आयोजन शुरू हो जाते हैं। इस माह पड़ने वाले सभी सोमवार पर शिवालयों में विशेष पूजा-अर्चना की जाती है। सावन के दूसरे सोमवार पर शिवालयों में तड़के से ही भक्तों की भीड़ लगने लगी थी। सासनी गेट के गोपेश्वर महादेव, अलीगढ़ रोड के कैलाश मंदिर, नवग्रह मंदिर, चिताहरण मंदिर, मनकामेश्वर मंदिर, चमत्कारी महादेव मंदिर के अलावा गली- मोहल्लों में बने शिवालयों पर भी श्रद्धालु जलाभिषेक व पूजा के लिए पहुंचे। हसायन में खेरेश्वर महादेव, सिकंदराराऊ, सासनी, सादाबाद, सहपऊ के शिव मंदिरों पर पूजा की गई। चौबे वाले महादेव मंदिर पर मेला

शहर में सबसे अधिक भीड़ मेंडू रोड स्थित चौबे वाले महादेव मंदिर पर लगी हुई थी। यह प्राचीन शिवालय है। यहां पर शहर के अलावा दूर-दूर से भक्त पूजा करने के लिए आते हैं। यहां पर सांकेतिक रूप में मेला भी लगा। शहर से देहात तक के प्रमुख मंदिर परिसरों में खेल-तमाशे, चाट पकौड़ी, आइसक्रीम व अन्य सामान की दुकानें लगी हुई थीं। शाम के समय शिवालयों पर भोलेनाथ के भव्य दर्शन कराए गए। सुरक्षा के लिए तैनात रही पुलिस

सावन में आस्था व भक्ति का सैलाब उमड़ने से सोमवार के दिन बड़ी संख्या में महिलाएं भी पूजा-अर्चना के लिए पहुंचती हैं। इस दौरान असामाजिक तत्व भी हाथ दिखाते हैं। इसलिए सुरक्षा व्यवस्था के लिए तमाम मंदिरों पर पुलिस तैनात की गई थी। बारिश के चलते चौबे वाले महादेव सहित कई प्रमुख मंदिरों पर जलभराव से श्रद्धालुओं को गुजरना पड़ा।

Edited By: Jagran