मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

हरदोई : प्रदेश से लेकर केंद्र सरकार किसानों की आय दोगुनी करने को लेकर तमाम योजनाएं संचालित कर रही है। इन्हीं योजनाओं में उद्यान विभाग की प्याज भंडार गृह योजना शामिल हैं। पिछले सत्र में उद्यान विभाग के सहयेाग से बेंहदर क्षेत्र के दो प्याज उत्पादकों ने प्याज भंडार गृह का निर्माण कराया। इन किसानों को प्याज का भंडारण कर अच्छे मुनाफे की उम्मीद जगी है। उनका कहना है कि प्याज भंडार गृह में भंडारित प्याज के सड़ने का कोई खतरा नहीं है।

जिले के संडीला, बिलग्राम तहसील क्षेत्र के अंतर्गत कछौना, संडीला, बेंहदर, कोथावां और मल्लावां क्षेत्र में प्याज का उत्पादन अच्छा होता है। इन क्षेत्रों के करीब एक सैकड़ा किसान प्याज का उत्पादन करते हैं। जिले में करीब डेढ़ से दो सौ हेक्टेयर भूमि पर प्याज होता है। इस बार करीब 24 हजार क्विंटल प्याज का उत्पादन हुआ था। बेहंदर के बाघाडाडा के किसान शारदा बक्स सिंह बताते हैं कि रवी सीजन में प्याज का उत्पादन होता है। प्याज का भंडारण बेहद मुश्किल है। इसके चलते किसान औने-पौने दामों पर सीजन पर ही प्याज बेच लेते हैं, जिससे उन्हें अच्छा मुनाफा नहीं होता। उन्होंने बताया कि प्याज भंडारण गृह का निर्माण में करीब डेढ़ लाख लागत आई। विभाग ने इसके निर्माण पर 40 फीसद अनुदान दिया। पिछले वर्ष पांच बीघा में प्याज का उत्पादन किया था, जिसे तुरंत बाजार में बेचना पड़ा और मुनाफा उम्मीद के मुताबिक काफी कम हुआ। इस बार कम क्षेत्रफल में ब्याज का उत्पादन किया और प्याज भंडारित कर अच्छा मुनाफा कमा रहे हैं। हेवली के रुकमंगल बताते हैं कि वह पहले से प्याज का उत्पादन कर रहे हैं। विभाग की ओर से 250 क्विटल क्षमता वाले प्याज भंडार गृह का निर्माण कराया है। वह खुद ही नहीं अपितु दूसरे किसानों का किराए पर प्याज का भंडारण कर सकते हैं।

इनसेट--

इस बार नहीं मिला प्याज भंडार गृह निर्माण का लक्ष्य हरदोई : सहायक उद्यान निरीक्षक हरिओम ने बताया कि राष्ट्रीय कृषि विकास योजना के अंतर्गत इस बार प्याज भंडार गृह के निर्माण का लक्ष्य प्राप्त नहीं हुआ है।इसके बावजूद अगर कोई किसान प्याज भंडार गृह निर्माण का इच्छुक है। तो उसे विभाग की वेबसाइट पर पंजीकरण कराना अनिवार्य है। इसके बाद किसान अपना प्रस्ताव दे सकते है। किसानों के प्रस्ताव को उद्यान निदेशालय भेजा जाएगा। प्रस्ताव की मंजूरी के उपरांत किसानों को अनुदान का लाभ दिया जा सकेगा। उन्होंने यह भी बताया कि पिछले वित्तीय वर्ष में बेंहदर के वाघाडाडा और हेवली में प्याज भंडार गृह का निर्माण कराया गया था। प्याज उत्पादक खुद प्याज का उत्पादन कर भंडारित कर सकते है। इसके साथ ही किराए पर दूसरे किसानों का प्याज भंडारण कर अच्छा मुनाफा कमा सकते है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप