हरदोई : पचदेवरा में परिषदीय विद्यालयों में बेहतर शिक्षा को लेकर प्रयास किए जा रहे हैं लेकिन जिम्मेदारों की मनमानी मंशा पर पानी फेर रही है। पछोहा क्षेत्र में शिक्षा की तस्वीर नहीं सुधार रही है। सोमवार को ऐसा ही कुछ देखने को मिला। हालत तो यह कि प्राथमिक विद्यालय सुल्तानपुर में चार अध्यापक तैनात हैं लेकिन विद्यालय में मात्र तीन बच्चे मिले। मिड-डे मील बनता नहीं, फल वितरण की तो बात ही छोड़ दो।

भरखनी विकास खंड के प्राथमिक विद्यालय सुल्तानपुर में सोमवार को सिर्फ तीन बच्चे उपस्थित मिले। सहायक अध्यापक सत्यप्रकाश कहीं घूमने गए थे, कुछ समय बाद आए और बताया कि छात्र संख्या 97 है।

उन्होंने बताया कि यहां सहायक अध्यापक अनोद कुमार, कौशलेंद्र, अमृतलाल हैं, इंचार्ज अध्यापक हरगो¨वद हैं जो कभी नहीं आते। मौजूद बच्चों ने बताया कि विद्यालय कभी-कभार ही खुलता है फल वितरण कभी नहीं होता है। प्राथमिक विद्यालय उदयपुर में भी शिक्षामित्र मौजूद मिली। जिन्होंने अपना नाम नहीं बताया कि वहां फल वितरण नहीं हुआ था, न ही भोजन बना था। प्राथमिक पाठशाला आमतारा में अध्यापक चंद्रभान शर्मा उपस्थित मिले। उन्होंने बताया कि कुल छात्र संख्या 216 है जिसके सापेक्ष 60 बच्चे ही उपस्थित मिले। फल वितरण नहीं हुआ था। जूनियर हाईस्कूल आमतारा में अध्यापक राजेश मिश्रा उपस्थित मिले। उन्होंने बताया कि कुल 194 छात्र है जिसके सापेक्ष 70 उपस्थित मिले। फल वितरण नहीं किया गया था। बच्चों ने बताया कि आज खिचड़ी बनी है। बीएसए हेमंतराव ने बताया कि सघन निरीक्षण कराया जाएगा और मनमानी पर कार्रवाई होगी।

Posted By: Jagran