जागरण संवाददाता, हापुड़ : परिवहन निगम की बसों में प्रतिदिन यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए खुशखबरी है। मासिक पास के लिए आवेदन करने वालों को अब पहले अस्थायी पास मासिक पास (एमएसटी) जारी होगा। इस व्यवस्था के बाद मासिक पास के लिए आवेदन करने वाले यात्रियों को स्थायी मासिक पास दो माह में मिलने के कारण होने वाली समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा।

राज्य सड़क परिवहन निगम (रोडवेज) की बसों में प्रतिदिन हजारों यात्री विभिन्न शहरों की यात्रा करते हैं। इन यात्रियों में सरकारी और निजी संस्थानों में नौकरी करने वाले और व्यापारी शामिल हैं। अन्य नगरों के कॉलेजों में शिक्षा ग्रहण कर रहे काफी छात्र भी प्रतिदिन रोडवेज की बस सुविधा का लाभ उठाते हैं। प्रतिदिन यात्रा करने वाले यात्री निगम द्वारा दी जा रही मासिक पास की सुविधा का लाभ लेते हैं। रोडवेज अपने दैनिक यात्रियों को मासिक पास जारी कर उन्हें किराये में छूट प्रदान करता है। निगम ने यह सुविधा सभी मार्गों पर चलने वाली बसों में दी हुई है।

राज्य सड़क परिवहन निगम कार्यालय के आंकड़ों के अनुसार प्रतिदिन 25 से 30 यात्री मासिक पास के लिए आवेदन करते हैं। मासिक पास जारी करने के लिए सभी औपचारिकताओं को पूरा करने में लगभग दो माह का समय लग जाता है। इस कारण मासिक पास के लिए आवेदन करने वाले यात्री को लगभग दो माह बाद ही मासिक पास यात्री को मिल पाता है। तब तक वह रोडवेज बसों में पूरा किराया देकर की यात्रा करने को मजबूर रहता है।

राज्य सड़क परिवहन निगम के सहायक क्षेत्रीय प्रबंधक एन.पी. ¨सह ने बताया कि यात्रियों की सुविधा को इस समस्या से निजात दिलाने के लिए निगम ने अस्थायी पास जारी करने का निर्णय लिया है। इस व्यवस्था में रोडवेज स्थायी मासिक पास के लिए आवेदन करते ही यात्री को उसी दिन अस्थायी मासिक पास जारी कर देगा। यह अस्थायी मासिक पास यात्री को स्थायी मासिक पास जारी होने तक वैध रहेगा। इस निर्णय से परिवहन निगम और यात्री दोनों को लाभ मिलेगा।

Posted By: Jagran