संवाद सहयोगी,धौलाना :

सपनावत में बुखार के चलते रविवार को एक बच्ची की मौत के बाद बृहस्पतिवार को मुख्य चिकित्साधिकारी (सीएमओ) डाक्टर सुनील त्यागी ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र और गांव में पहुंचकर निरीक्षण किया। इस दौरान ग्रामीणों ने स्वास्थ्य सेवाओं की बदहाली का दुखड़ा रोया। जिस पर सीएमओ ने चिकित्सकों की क्लास लगाई और व्यवस्थाओं में सुधार के निर्देश दिए।

ग्रामीणों ने मुख्य चिकित्साधिकारी को बताया कि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सपनावत में आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध नहीं है। कई बार ग्रामीणों को रात्रि में भर्ती करने से मना कर दिया जाता है। एक ग्रामीण ने आरोप लगाया कि बीते दिनों वह अपनी पत्नी को अस्पताल में प्रसव कराने के लिए आए थे, लेकिन स्टाफ ना मिलने के चलते उन्हें मजबूरन निजी चिकित्सालय में जाना पड़ा।

ग्रामीणों की शिकायत पर मुख्य चिकित्साधिकारी ने स्वास्थ्य केंद्र में मौजूद चिकित्सकों और कर्मियों को सुधार करने की हिदायत दी। उन्होंने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य सुविधाएं सुधारने के लिए निरंतर कार्य किए जा रहे हैं।

--------

इन्होंने की शिकायत :

12 अगस्त को मैं सपनावत सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में रात्रि तीन बजे भाभी को प्रसव कराने के लिए लेकर आया था। लेकिन स्वास्थ्य केंद्र पर स्टाफ उपलब्ध ना होने के चलते मजबूरन गुलावठी में निजी चिकित्सालय में प्रसव कराना पड़ा। जिस वजह से 32 हजार रुपये अतिरिक्त खर्च करने पड़े थे। दिनेश , ग्रामीण

-------- सपनावत के स्वास्थ्य केंद्र पर ना तो एक्स-रे मशीन का कोई टेक्नीशियन है और ना ही नेत्र चिकित्सक हैं। खून टेस्ट की भी सुविधा अस्पताल में उपलब्ध नहीं है। राम अवतार सिंह , भारतीय किसान यूनियन

Edited By: Jagran

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट