संवाद सहयोगी, गढ़मुक्तेश्वर:

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के अवैध शराब की बिक्री करने वाले लोगों की संपत्ति कुर्क करने के आदेश के बाद पुलिस ने कार्रवाई शुरू कर दी है। पुलिस ने अब क्षेत्र में अवैध रूप से शराब तैयार करने वाले लोगों की कुंडली को खंगालना शुरू कर दिया है। गढ़ खादर क्षेत्र में बड़े स्तर पर कच्ची शराब का कारोबार होता है।

गंगानगरी ब्रजघाट में 13 लोगों की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो चुकी है। हालांकि किसी भी शव का पोस्टमार्टम न होने के कारण मौत का कारण स्पष्ट नहीं हो सका हैं। शनिवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आदेश के बाद पुलिस ने अब अवैध शराब के गोरखधंधे में लिप्त आरोपितों की कुंडली को खंगालना शुरू कर दिया है। पुलिस ऐसे आरोपितों का आपराधिक इतिहास देख रही है जो बड़े स्तर पर इस कारोबार से जुड़े हैं।

---

2009 में हुए शराब कांड में जेल भेजे गए थे आरोपित

वर्ष 2009 में गढ़ क्षेत्र में करीना नामक जहरीली शराब से 32 लोगों की मौत हो गई थी। उस दौरान तत्कालीन बसपा सरकार ने कई अधिकारियों को सस्पेंड किया था। उस दौरान पुलिस ने उक्त शराब का कारोबार करने वाले आरोपितों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जेल भी भेजा था।

--

महिलाओं और नाबालिग भी धंधे में शामिल

गंगा खादर के गांवों में कच्ची शराब का धंधा जोरों पर है। लोगों के लिए अच्छी खासी आमदनी का जरिया बन गया है। इसके चलते महिलाओं समेत नाबालिग बच्चे भी इस अवैध कारोबार में जुट गए हैं।

-------------

दूसरे प्रांतों तक होती है सप्लाई

गंगा के तटीय क्षेत्र में बसे गांवों में तैयार होने वाली शराब को खादर की मस्ती के नाम से ख्याति हासिल है। जिसे माफिया द्वारा हरियाणा, राजस्थान और पंजाब तक सप्लाई किया जाता है।

--- स्वास्थ्य के लिए क्यों घातक

कच्ची शराब की तीव्रता बढ़ाने के लिए उसमें यूरिया खाद, कास्टिक सोडा, नौशादर और पोटाश की मिलावट की जाती है, जो चिकित्सीय दृष्टि से आंत और लीवर के लिए बेहद घातक होते हैं। कच्ची शराब बनाने वाले लोगों के पास उसकी तीव्रता नापने के लिए कोई यंत्र नहीं होता है। वह अंदाजे से ही उसमें पानी मिलाकर उसकी तीव्रता कम करते हैं। क्या कहते हैं अधिकारी

अवैध शराब का कारोबार करने वाले व जो अपराधिक पूर्व में इस कारोबार से जुड़ा होने के कारण जेल जा चुका है ऐसे लोगों की सूची तैयार कराई जा रही है। सूची तैयार कर आरोपितों के खिलाफ शासन से मिलने वाले आदेशों का पालन किया जाएगा।

-सर्वेश मिश्रा, अपर पुलिस अधीक्षक, हापुड़

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप