Move to Jagran APP

Eid al-Adha 2024: बकरीद का त्योहार आज, ईद-उल-अजहा पर अमन चैन की दुआ के साथ सजदे में झुके सिर

देशभर में ईद-उल-अजहा का त्योहार मनाया जा रहा है। हापुड़ में ईद की नमाज को लेकर ईदगाह कमेटी व प्रशासन ने बार-बार एलान किया था कि कोई भी सड़क पर नमाज ना पढ़े। पुलिस व प्रशासन के अधिकारियों ने भी इसको लेकर गणमान्य लोगों के साथ बैठक कर सड़क पर नमाज न पढ़ने और सार्वजनिक स्थानों पर कुर्बानी नहीं करने का अनुरोध किया था।

By Dharampal Arya Edited By: Abhishek Tiwari Mon, 17 Jun 2024 09:28 AM (IST)
हापुड़ में बकरीद की नमाज कड़ी सुरक्षा-व्यवस्था के बीच अदा की गई।

ठाकुर डीपी आर्य, हापुड़। ईद-उल-अजहा (बकरीद) की नमाज जिले में कड़ी सुरक्षा-व्यवस्था के बीच अदा की गई। ईदगाह समेत विभिन्न मस्जिदों में बड़ी संख्या में मुस्लिम समुदाय के लोगों ने नमाज अदा की। ईदगाह में शहर काजी मुफ्ती मकसूद आलम कासमी ने नमाज पढ़ाई। नमाज के बाद मुल्क में अमन चैन की दुआ की गई।

शहरकाजी मुफ्ती मकसूद अलाम कासमी ने ईद की नमाज के बाद कहा कि कुर्बानी अपने घरों पर करें। सड़कों पर गंदगी न फैलाएं। उन्होंने पानी को बचाने पर विशेष जोर देते हुए कहा कि पानी की बर्बादी न की जाए। पेड़-पौधे अपने घरों में भी लगाएं और घरों के आसपास भी लगाएं।

आपसी भाईचारा कायम रखें और सभी एक दूसरे का सहयोग करें। मुल्क में अमन शांति की दुआ कराई गई। नायब शहर काजी मौलवी मोहम्मद असद काजमी ने कहा कि ईदगाह का ख्याल रखें। उन्होंने पुलिस व प्रशासन के अधिकारियों के सहयोग के लिए आभार व्यक्त किया।

पुलिस की अपील-सड़क पर कुर्बनी ना करें

ईद की नमाज को लेकर ईदगाह कमेटी व प्रशासन ने बार-बार एलान किया था कि कोई भी सड़क पर नमाज ना पढ़े। पुलिस व प्रशासन के अधिकारियों ने भी इसको लेकर गणमान्य लोगों के साथ बैठक कर सड़क पर नमाज न पढ़ने और सार्वजनिक स्थानों पर कुर्बानी नहीं करने का अनुरोध किया था। जिन लोगों को ईदगाह में जगह नहीं मिली उन्होंने ईदगाह के आसपास की मस्जिदों में ईद की नमाज अदा की। इसके साथ ही शहर की 50 मस्जिदों में भी शांतिपूर्वक ईद की नमाज अदा की गई।

इस दौरान डीएम प्रेरणा शर्मा, एसपी अभिषेक वर्मा, सीडीओ अभिषेक कुमार, अपर जिलाधिकारी संदीप कुमार, अपर पुलिस अधीक्षक राजकुमार अग्रवाल, सीओ वरुण मिश्रा, एसडीएम शुभम श्रीवास्तव, पालिकाध्यक्ष चेयरमैन पति श्रीपाल समेत शहर के अनेक गणमान्य लोग मौजूद रहे। इस दौरान ईदगाह की ओर जाने वाले प्रमुख मार्गों पर वाहनों का रूट डायवर्ट रखा गया।