हापुड़ [शुभम गोयल]। लंबी खींचतान के बाद जिले की हापुड़ और धौलाना विधानसभा सीट पर कांग्रेसियों ने प्रत्याशियों को मैदान में उतार दिया है। हापुड़ सीट से जिला पंचायत सदस्य भावना वाल्मीकि और धौलाना सीट से सर्राफा व्यापारी अरविंद शर्मा को टिकट दिया गया है। दोनों ही प्रत्याशी शुक्रवार को आखिरी दिन नामांकन करेंगे। दोनों के टिकट के बाद क्षेत्र में राजनीतिक सरगर्मी बढ़ गई हैं।

बता दें कि कांग्रेस से चार बार के पूर्व विधायक गजराज सिंह ने पिछले दिनों रालोद का दामन थाम लिया था। इसके बाद इन्हें रालोद-सपा गठबंधन से हापुड़ सीट से उम्मीदवार बनाया गया है। गजराज सिंह के अचानक पाला बदलने से कांग्रेस में खलबली मची हुई थी। मजबूत प्रत्याशी की तलाश पार्टी लगातार कर रही थी। कई दिन बीत जाने और लंबी खींचतान के बाद जिला पंचायत सदस्य भावना वाल्मीकि को पार्टी की सदस्यता दिलाई गई। बृहस्पतिवार को इन्हें पार्टी की तरफ से उम्मीदवार बनाया गया है। हापुड़ विधानसभा क्षेत्र में वाल्मीकि समाज की करीब दस हजार वोट हैं। कांग्रेस की इन वोटों पर नजर है।

वहीं, धौलाना विधानसभा सीट पर पुराने राजनीतिज्ञ अरविंद शर्मा को उतारा गया है। अरविंद शर्मा लंबे समय से राजनीति में सक्रिय हैं।पिलखुवा के गांव कस्तला कासमाबाद निवासी अरविंद शर्मा सर्राफा व्यापारी हैं। सर्राफा बाजार हापुड़ में लगभग 40 साल से व्यापार कर रहे हैं। अरविंद शर्मा रेलवे रोड स्थित सर्वोदय इंटर कालेज से 12वीं की पढ़ाई करते हुए छात्र संघ की राजनीति में सक्रिय हो गए थे। 1995 में वह बीडीसी निर्वाचित हुए। 2005 में जिला पंचायत सदस्य का चुनाव लड़ा।

इस चुनाव में उन्हें पराजय का मुंह देखना पड़ा। हापुड़ सर्राफा बाजार एसोसिएशन के वह तीन बार अध्यक्ष रह चुके हैं। वर्तमान में अरविंद शर्मा उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार प्रतिनिधिमंडल के प्रदेश मंत्री और संयुक्त व्यापार मंडल हापुड़ के अध्यक्ष भी हैं। उन्होंने बताया कि कांग्रेस हाइकमान ने उन पर जो विश्वास जताया है। उस पर वह खरा उतरने का प्रयास करेंगे और घर-घर जाकर मतदाताओं से पार्टी को जीतने का आह्वान करेंगे। बता दें कि धौलाना विधानसभा के मतदाताओं के लिए अरविंद शर्मा नया चेहरा हैं।

Edited By: Mangal Yadav