संवाद सहयोगी, पिलखुवा:

बैंक ऑफ बड़ौदा का एटीएम काटकर 22 लाख रुपये चोरी करने वाले गिरोह के सरगना को हरियाणा के जनपद पानीपत पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। पिलखुवा पुलिस शीघ्र ही आरोपित को रिमांड पर लेकर पूछताछ करेगी। गिरफ्तार बदमाश से ग्यारह लाख रुपये बरामद किए गए हैं। हालांकि अभी यह स्पष्ट नहीं है कि बरामद रुपये किस घटना से संबंधित हैं। गिरफ्तार बदमाश ने पानीपत पुलिस को उत्तर प्रदेश, राजस्थान और दिल्ली में एटीएम काटकर चोरी करने की वारदात की जानकारी दी है।

आरोपित इंद्रजीत उर्फ नीतू पंजाब के जालंधर का रहने वाला वे¨ल्डग मैकेनिक है। अपने करोड़पति बड़े भाई की तरह जीवन गुजारने के लिए उसने अपराध की दुनिया में कदम रखा था। पुलिस के अनुसार वर्ष 2010 से 2018 तक गैंग बनाकर उसने 54 आपराधिक घटनाओं को अंजाम दिया। इनमें 35 एटीएम काटने, 14 वाहन चोरी और पांच झपटमारी की घटना हैं। हरियाणा, पंजाब के अलावा उत्तर प्रदेश, दिल्ली और राजस्थान में इस गैंग ने वारदातों को अंजाम दिया है। पानीपत पुलिस के अनुसार वर्ष 2010 से 2013 तक इंद्रजीत ने झपटमारी और वाहन चोरी की वारदात की थी। वर्ष 2013 में एक समाचार पत्र में एटीएम काटकर लाखों की चोरी करने का समाचार पढ़ने के बाद उसने अपना एक गैंग बनाया और अपराध शुरू कर दिया। उसने पुलिस को बताया है कि एटीएम काटने की घटना में खतरा कम और कमाई अधिक है। उल्लेखनीय है कि 28 दिसंबर की रात पिलखुवा कोतवाली अंतर्गत राष्ट्रीय राजमार्ग स्थित बैंक ऑफ बड़ौदा का एटीएम काटकर लगभग 22 लाख रुपये चोरी कर ले गए थे। चोरों को पकड़ने के लिए पुलिस अधीक्षक संकल्प शर्मा ने पुलिस की पांच टीमें गठित की थीं, लेकिन सुराग नहीं लग सका था। थाना प्रभारी निरीक्षक संजीव शुक्ला का कहना है कि गिरफ्तार बदमाश को लेकर शीघ्र रिमांड पर लेकर पूछताछ की जाएगी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप