जागरण संवाददाता, महोबा : गर्भवती किशोरी को लाया चाचा जिला अस्पताल में छोड़कर भाग निकला। प्रसव पीड़ा से तड़प रही किशोरी का प्रसव कराया गया तो उसने मृत बच्चे को जन्म दिया। मामले में पुलिस को सूचना देने के साथ ही डॉक्टरों ने चिकित्सकीय परीक्षण के लिए प्री मेच्योर बेबी के शव को सुरक्षित किया गया है। फिलहाल किशोरी का अस्पताल में ही इलाज चल रहा है और उसकी हालत सामान्य है।

मंगलवार रात 17 वर्षीय किशोरी को एक व्यक्ति जिला अस्पताल लाया। वह खुद को किशोरी का चाचा बता रहा था। बताया कि वह गर्भवती है और अभी उसकी शादी भी नहीं हुई है। करीब साढ़े आठ माह का गर्भ था और वह दर्द से कराह रही थी। स्वास्थ्य कर्मियों ने उसे रेफर कराकर बाहर ले जाने की सलाह दी लेकिन रेफर की बात सुनकर चाचा रफूचक्कर हो गया और प्रसूता की हालत गंभीर होने लगी। जानकारी होने पर सीएमएस डॉ.एसके वर्मा रात्रि में मौके पर पहुंचे और उसकी जान बचाने के लिए उसका प्रसव कराया।

किशोरी ने चिकित्सकों को बताया कि वह गांव में ही काम पर जाती थी और यहां एक युवक ने उसके साथ दुष्कर्म किया। उसके प्रभावशाली होने और डर के कारण वह किसी को बता नहीं सकी। गर्भ ठहरने पर उसे गोलियां खिलाई गईं। महिला अस्पताल के सीएमएस डॉ. एसके वर्मा ने इसकी जानकारी कोतवाली पुलिस को दी है और मृत बच्चे के भ्रूण को चिकित्सकीय परीक्षण के लिए सुरक्षित रखा गया है। कोतवाल विपिन त्रिवेदी ने कहा कि जिला महिला अस्पताल से सूचना मिली है। उसमें किसी अपराध का जिक्र नहीं है। पीड़िता या उसके माता-पिता तहरीर देंगे तो जांच कर कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस