संस, मौदहा : क्षेत्र में मंगलवार को चंद्रावल नदी के डैम में बह जाने के कारण किशोर की पानी में डूबकर मौत हो गई। जबकि दूसरी घटना में ग्राम करहिया के एक आइटीआइ छात्र की मालगाड़ी से टकराने से मौत हो गई।

कोतवाली क्षेत्र के ग्राम भवानी निवासी 14 वर्षीय अखिलेश पुत्र श्यामलाल वर्मा मंगलवार को महालक्ष्मी का त्योहार होने के कारण अपने स्वजन व पड़ोसी महिलाओं के साथ स्नान के लिए चंद्रावल नदी के डैम पर पूजन को गया था। जहां डैम के रपटे में काई लगने व बहाव तेज होने के चलते वह पानी में बहकर डूब गया। यह देख वहां स्थान कर रहीं महिलाओं के द्वारा शोर मचाने पर आसपास मौजूद ग्रामीण व गोताखोर अखिलेश को बचाने के लिए नदी के पानी में कूद गए। काफी प्रयास के बाद गोताखोरों को अखिलेश मिल गया। यह जानकारी गांव में पहुंचते ही नदी तट पर ग्रामीणों की भीड़ जमा हो गई। अखिलेश को गंभीर हालत में आनन फानन सीएचसी लाया गया। जहां चिकित्सक ने उसे देखते ही मृत घोषित कर दिया। अखिलेश दो भाइयों व चार बहनों में चौथे नंबर का था। वहीं श्यामलाल कोरोना काल के पूर्व दिल्ली में परिवार समेत रहकर मजदूरी करता था। मौजूदा में वह अपने गांव में मजदूरी कर रहा है।

अंडरपास पर पानी भरे होने से ट्रैक का रास्ता चुना

कोतवाली क्षेत्र के ग्राम करहिया निवासी 22 वर्षीय रामकरण पुत्र देवेंद्र यादव मंगलवार सुबह अपने खेतों को देखने जा रहा था। बीच रास्ते में रेलवे अंडरपास में पानी भरा होने के चलते वह रेलवे ट्रैक पार कर रहा था। तभी बांदा की ओर से आ रही मालगाड़ी की टक्कर लगने से उसकी घटनास्थल पर ही मौत हो गई। घटना की सूचना मिलते ही स्वजन रोते बिलखते घटनास्थल पर पहुंच गए। वह दो भाई व एक बहन में सबसे छोटा था। वह बांदा में रह आइटीआइ का प्रशिक्षण ले रहा था। पिछले शनिवार को वह गांव आया था।

Edited By: Jagran