जागरण संवाददाता, हमीरपुर : रविवार की देरशाम तेज आंधी व पानी की चपेट में आकर कई स्थानों में पेड़ धराशायी हो गए। जिसके कारण बिजली व्यवस्था पूरी तरह से चरमरा गई। करीब 20 घंटे तक बिजली आपूर्ति ठप रहने के कारण लोगों के घरों में अंधेरा छाया रहा। वहीं बिजली आपूर्ति न होने के कारण लोगों के घरों में पानी भी नहीं पहुंचा। जिसके कारण उन्हें हैंडपंप का सहारा लेना पड़ा। इसके साथ ही सीएमओ आवास की बाउंड्री भी इस आंधी पानी का शिकार हो गई। जिसके ऊपर एक पेड़ गिर गया। जिससे वह टूट गई और कार भी क्षतिग्रस्त हो गई।

रविवार की शाम तेज आंधी पानी के कारण मुख्यालय के फायर ब्रिगेड के पास कई पेड़ गिर गए। इसके साथ ही अवतार मेहेर बाबा मंदिर के सामने भी एक पेड़ धराशायी हो गया। इसके साथ ही सीएमओ आवास के बाहर लगा विशालकाय गोल्ड मोहर का पेड़ भी धराशायी हो गया। जिसमे सीएमओ आवास की बाउंड्री टूट गई और आवास में खड़ी कार भी क्षतिग्रस्त हो गई। इसके अलावा चौरादेवी मंदिर की ओर जाने वाले मार्ग में भी कई पेड़ गिरे नजर आए। जगह जगह पेड़ों के गिरने के कारण बिजली केबल इनकी चपेट में आ गईं। जिसके कारण बिजली आपूर्ति ठप हो गई। रविवार की शाम चार बजे से बिजली आपूर्ति ठप हो गई। जो सोमवार की दोपहर तक बहाल हो सके। बिजली आपूर्ति बहाल न होने के कारण सोमवार की सुबह लोगों के घरों में पानी की भी सप्लाई नही पहुंच सकी। जिसके कारण लोगों को हैंडपंप का सहारा लेना पड़ा और लाइन लगाकर पानी भरना पड़ा। दोपहर करीब दो बजे पूरी तरह से बिजली आपूर्ति बहाल हो सकी। जिसके बाद लोगों ने राहत महसूस की।

एक माह बाद भी नहीं बदले गए टूटे बिजली के तार

संस, राठ : क्षेत्र के औड़ेरा गांव में टूटे हाईटेंशन तार एक माह गुजरने के बाद भी नहीं बदले जा सके। बार-बार हाईटेंशन तार टूटने के बाद विभाग के कर्मचारी जोड़ कर चले जाते हैं और लोड पडते ही फाल्ट हो जाते है। मुंडेरा गांव के ग्रामीणों ने बताया कि कुछ दिनों में बिजली तार दो बार टूट चुके हैं। जिन्हें जोड़ने के बाद भी लाइन एक घंटा भी नहीं चलती। तार इतने जर्जर हो चुके की बार बार टूटकर गिर जाते है। कई बार विभाग को अवगत करा नये तार डाले जाने की बात कही। इस समय गांव के दो मोहल्ले अंधेरे में है। बिजली का बिल भी बराबर लग रहा है। सिर्फ दो फेस पर गांव की सप्लाई चल रही हैं। ग्रामीणों ने बताया कि अभी पिछले हफ्ते अधिक वोल्टेज आने से लोगो के उपकरण जल गये। शिकायत करने के बाद भी कोई सुनवाई नहीं हुई। गांव के कर्ण सिंह राजपूत, रामसिंह राजपूत, दयाशंकर, दिनेश अहिरवार, पूरन सिंह अहिरवार, अखिलेश, रामसेवक , मुन्ना अहिरवार ने बताया कि एक माह से बिजली नहीं आ रही हैं।

Edited By: Jagran