जागरण संवाददाता, हमीरपुर : बिवार थानाक्षेत्र के निवादा गांव में बीते रविवार को सहायक राजस्व लेखाकार की हुई हत्या के आरोपित व उसके तीन सहयोगियों को पुलिस ने जेल भेजा है। वहीं हत्यारोपित के एक साथी के पास से मामले में प्रयोग किया गया तमंचा व कारतूस बरामद किया है। हत्यारोपित ने लेखाकार की पत्नी से चल रहे अवैध संबंधों में रोड़ा बनने के चलते घटना को अंजाम देने की बात कही है। वहीं साक्ष्य जुटाने के बाद मृतक की पत्नी के खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी। प्रेसवार्ता कर एएसपी ने मामले की जानकारी दी।

बीते रविवार को बिवार थानाक्षेत्र के निवादा गांव निवासी मौदहा तहसील के सहायक राजस्व लेखाकार 32 वर्षीय पंकज तिवारी की गांव के ही विनय सिंह ने गोलीमार कर हत्या कर दी है। आरोपित की जल्द गिरफ्तारी की मांग पर एसपी नरेंद्र कुमार सिंह द्वारा थाना ललपुरा, थाना मौदहा, एसओजी व थाना बिवार की चार टीमें लगाई गई। जिसे ललपुरा व बिवार की टीम द्वारा गिरफ्तार किया गया। आरोपित ने बताया कि उसके मृतक पंकज की पत्नी से बीते दो वर्ष से अवैध संबंध हो गए थे। जिसकी जानकारी परिजनों को हो गई थी। करीब एक वर्ष पूर्व पंचायत के बाद पंकज की पत्नी को उसके मायके भेज दिया गया था। ताकि वह वंदना से न मिल सके। दीपावली के आसपास पंकज अपनी पत्नी को मायके से लिवा लाया और मौदहा कस्बा में अलग से मकान लेकर रहने लगा। बताया कि पंकज उसके अवैध संबंधों के बीच बाधक बन रहा था।

जिसके चलते उसने उसकी हत्या कर दी। वहीं आरोपित द्वारा दी गई जानकारी के आधार पर गांव निवासी चक्रपाणि की निशानदेही पर घटना में प्रयुक्त तमंचा बरामद किया। वहीं आरोपित को भागने में सहयोग कर रहे उसके मामा गणेश सिंह निवासी अतरार थाना बिवार व बहनोई हेमराज निवासी बांदा को गिरफ्तार किया। गुरुवार को मुख्य आरोपित विनय, चक्रपाणि, गणेश सिंह व हेमराज को जेल भेजा गया है। आरोपितों को गिरफ्तार करने वाली टीम में इंस्पेक्टर बिवार ओमप्रकाश यादव, थाना प्रभारी ललपुरा दुर्गविजय सिंह, बिवार थाने के दारोगा दीपक कुमार, कांस्टेबिल नरेंद्र कुमार, पवन कुमार अंजलि व ललपुरा थाने के कांस्टेबिल मुशीर अली व सनी सिंह शामिल रहे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप