गोरखपुर, जागरण संवाददाता : पडरौना जिले की सदर कोतवाली पुलिस ने नगर निवासी रीता श्रीवास्तव पर दुर्व्‍यवहार तथा सरकारी कार्य में बाधा उत्‍पन्‍न करने सहित कई धाराओं में मुकदमा पंजीकृत किया है। शहर लेखपाल अरविंद पति त्रिपाठी ने उनके विरुद्ध तहरीर देकर कार्रवाई की मांग की थी। आरोपित महिला के फालोवर्स भी दर्ज मुकदमे में आरोपित बनाए गए हैं।

शिकायती पत्र फाड़ दिया था रीता ने

लेखपाल ने दी गई तहरीर में कहा है कि बीते शनिवार को आयोजित थाना समाधान दिवस पर नगर निवासी सुनील बागड़‍िया द्वारा दिए गए शिकायती पत्र के क्रम में बीते सोमवार को राजस्व टीम के साथ दोपहर तीन बजे वे मौके पर पहुंच शिकायतकर्ता व दूसरे पक्ष की रीता श्रीवास्तव से पूछताछ कर रहे थे। इस बीच रीता ने राजस्वकर्मियों के साथ दुर्व्‍यवहार किया और शिकायती पत्र फाड़ दिया। टीम में शामिल एक लेखपाल को जातिसूचक शब्द से बुलाते हुए अपशब्द भी कहा। इससे मौके पर अराजकता की स्थिति कायम हो गई। इसकी सूचना तहसीलदार को दी गई।

रीता ने इंटरनेट मीडिया पर अपशब्‍द लिखकर किया पोस्‍ट

लेखपाल ने कहा है कि रीता ने इंटरनेट मीडिया पर अपशब्द लिखकर पोस्ट किया और मेरे चरित्र पर गंभीर आरोप लगाए। इंटरनेट मीडिया पर किए गए इस पोस्ट पर उनके फालोवर्स द्वारा अपशब्द लिख कर मुझे तथा उच्चाधिकारियों के सम्मान को ठेस पहुंचाया गया। कोतवाल अनुज कुमार सिंह ने कहा कि शहर लेखपाल की तहरीर पर आरोपित रीता के विरुद्ध सरकारी कार्य में बाधा पहुंचाने, एससी-एसटी सहित कई धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है। दर्ज मुकदमे में फालोवर्स भी आरोपित हैं, विवेचना की जा रही है।

नियम विरुद्ध हड़ताल करने पर पांच पर लगा एस्मा

प्रदेश में हड़ताल पर रोक होने के बाद भी एंबुलेंस चालकों द्वारा हड़ताल पर जाने के मामले में सीएमओ डा.सुरेश पटारिया की शिकायत पर एंबुलेंस चालक रनवीर यादव, रवींद्र तिवारी, सुरेंद्र, विपिन शुक्ल व राजू जायसवाल सहित पांच चालकों पर एस्मा एक्ट के तहत कार्रवाई की गई है। कोतवाल अनुज कुमार सिंह ने बताया कि मामले में विवेचना की जा रही है।

 

Edited By: Rahul Srivastava