गोरखपुर, जेएनएन। देवरिया जिले के बरहज क्षेत्र के ग्राम कटइलवा की एक महिला अपने तीन बेटों संग बुधवार की देर रात कीटनाशक खा ली। सभी की तबियत खराब होने पर परिवार के लोग इलाज के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले कर गए। जहां डाक्टर ने महिला को मृत घोषित कर दिया। तीनों मासूमों को गंभीर हालत में इलाज के लिए देवरिया रेफर कर दिया। रास्ते में एक मासूम की मौत हो गई। कीटनाशक खाने की वजह चार दिन पूर्व महिला के देवर की मई माह में होने वाली शादी के लिए खरीद कर लाए गए जेवर की बताया जा रहा है। महिला इस बात की आपत्ति थी कि उसकी शादी में कम जेवर दिया गया था और देवर की शादी के लिए अधिक जेवर खरीदे गए हैं। इस बात को लेकर महिला नाराज थी।

यह है घटनाक्रम

ग्राम कटइलवा निवासी संगीता 32 पत्नी आनंद निषाद बुधवार की रात में करीब 12 बजे अपने बेटे जयराज (उम्र 10 वर्ष) शिवराज ( उम्र 6 वर्ष) रामराज ( उम्र 4 वर्ष) के साथ कीटनाशक पदार्थ खा ली। सभी की देर रात तबियत गंभीर हो गई। घरवालों को इसकी जानकारी हुई। इलाज के लिए लेकर अस्पताल ले जा रहे थे कि घर पर ही संगीता की मौत हो गई। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से इलाज के लिए देवरिया जाते समय शिवराज की मौत हो गई। जयराज और रामराज का इलाज जिला अस्पताल में चल रहा है। दोनों की हालत गंभीर है।

संगीता बुधवार के दिन खेत में परिवार के साथ सरसों काटकर घर आई थी। परिवार के लोगों को इस तरह के कदम का एहसास नहीं था। परिवारवालों की माने तो आनंद के छोटे भाई की मई माह में शादी तय है। चार दिन पूर्व शादी के जेवर खरीद कर लाया गया था। अपने से अधिक जेवर को लेकर वह नाराज थी। थानाध्यक्ष जयंत कुमार सिंह ने बताया कि मृतका का पति आनंद बंगलुरू में है। वहां पेंटर का काम करता है। मायका बलिया जनपद के थाना बांसडीह के ग्राम हरदिया में है।

देवर की शादी में ज्यादे आभूषण खरीदने से नाराज थी संगीता

स्वजन के अनुसार संगीता के देवर की शादी मई  में तय है। चार दिन पूर्व शादी के आभूषण खरीद कर लाया गया था। उसकी नाराजगी थी कि उसकी शादी कम आभूषण दिया गया था, जिसकों लेकर वह दो दिन से नाराज चल रही थी। उसका कहना था कि मुझे भी आभूषण खरीदा जाए। जिस पर स्वजन पैसे की किल्लत बता रहे थे।

गांव में मातम

एक साथ दो मौत होने के बाद कटइलवा गांव में मातम का माहौल है। घर में स्वजन की चीत्कार से हर कोई की आंखें नम हैं। रिश्तेदारों का आना जारी है। सभी लोग संगीता के नकारात्मक फैसले को कोस रहे हैं।

जिला अस्पताल में बच्चे खतरे से बाहर

जिला अस्पताल में भर्ती कराए गए संगीता के दोनो मासूम बच्चे जयराज, रामराज खतरे से बाहर हैं। इलाज जारी है। उधर जयराज स्वजन को फोन कर अपने को स्वस्थ होने की जानकारी देते हुए रोने लगा। यह देख

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021