गोरखपुर, जागरण संवाददाता। तारामंडल में भगत चौराहा पर किराए पर कमरा लेकर बच्चों के साथ रहने वाली ग्राम पंचायत अधिकारी की पत्नी ने शुक्रवार की शाम को जहर खा लिया। गंभीर स्थिति में बेटा जिला अस्पताल ले गया जहां मौत हो गई। जहर खाने से पहले महिला ने मोबाइल में एक वीडियो रिकार्ड किया था। जिसमें वह अपनी मौत का जिम्मेदार अपने पति, उसकी परिचित महिला समेत पांच लोगों को बता रही हैं। रिश्तेदारों के साथ रात में रामगढ़ताल थाने पहुंचे बेटे ने तहरीर दी।

गैर महिला के साथ रह रहा था पति

बांसगांव के सरबसी गांव निवासी ग्राम पंचायत अधिकारी राम पलट यादव पिपरौली ब्लाक में तैनात हैं। परिचित महिला के साथ गीडा में किराए पर कमरा लेकर रहते हैं। उनकी पत्नी मंजू देवी किराए पर कमरा लेकर बच्चों के साथ भगत चौराहा पर रहती थीं। बच्चों का आरोप है कि पिछले तीन माह से रामपलट घर नहीं आए। गुरुवार की रात में मां के पास फोन कर अभद्रता की। जिसके बाद से वह बहुत परेशान थीं। सोमवार की दोपहर में बड़ी बेटी पल्लवी से मोबाइल फोन लेकर मंजू ने वीडियो संदेश रिकार्ड किया और घर से निकल गई। एक घंटे तक न लौटने पर बेटी ने खोजबीन शुरू की लेकिन पता नहीं चला। मोबाइल चेक करने पर वीडियो संदेश देखकर परेशान हो गई। अपने मामा के पास वीडियो भेजकर मामले की जानकारी दी।

भालोटिया मार्केट में अचेत मिली मंजू

खोजबीन में जुटे बेटे शुभांक को शाम पांच बजे भालोटिया मार्केट के पास मंजू अचेत मिली। बहन के साथ ही रिश्तेदारों को सूचना देने के साथ ही वह मां को जिला अस्पताल ले गया। जहां इलाज के दौरान रात 10 बजे उनकी मौत हो गई।जिसके बाद रिश्तेदारों के साथ थाने पहुंचे बेटे निदेशांक, शुभांक, हिमांशु और बेटी पल्लवी ने पिता राम पलट यादव उनकी परिचित महिला समेत पांच लोगों के खिलाफ तहरीर दी।प्रभारी निरीक्षक रामगढ़ताल जेएन ङ्क्षसह ने बताया कि तहरीर के आधार पर केस दर्ज कर जांच की जा रही है।

इंटरनेट मीडिया पर वायरल हुआ वीडियो

इंटरनेट मीडिया पर मंजू का वीडियो संदेश वायरल हो रहा है। जिसमें वह कह रही हैं कि पति का एक महिला के साथ अनैतिक संबंध है। पति, महिला, उसके बच्चे और रिश्तेदार मिलकर प्रताडि़त कर रहे हैं। जिसकी वजह से वह जान दे रही है। अधिकारियों से निवेदन हैं कि इन लोगों के खिलाफ कार्रवाई कर परिवार के साथ न्याय करें।

दो साल पहले बेटी ने कर ली थी खुदकुशी

मंजू की दो बेटी और तीन बेटे थे। पारिवारिक कलह की वजह से दूसरे नंबर की बेटी दिव्यज्योति ने दो साल पहले खुदकुशी कर ली। घटना के बाद मंजू बड़ी बेटी पल्लवी व तीन बेटो को लेकर शहर में चली आयी। बड़ी बेटी पल्लवी बीएससी की छात्रा है। 17 वर्षीय निदेशांक इंटरमीडिएट, 15 वर्षीय शुभांक कक्षा नौ और 10 वर्षीय हिमांशु कक्षा तीन में पढ़ते हैं। पल्लवी ने थानेदार को बताया कि घर का खर्च चलाने के लिए दो भाई दुकान पर काम करते हैं। कक्षा नौ में पढऩे वाला शुभांक दवा की दुकान पर रहता है।

Edited By: Satish Chand Shukla