गोरखपुर, जागरण संवाददाता। समाजवादी लोहिया वाहिनी का बूथ रक्षक बनने के बाद पहले दिन 21 जनवरी को ही शिव प्रकाश त्रिपाठी ने खजनी विधानसभा के रसूलपुर बाबू सहित तीन गांवों में पार्टी समर्थकों से संपर्क साध लिया। उन्होंने प्रतिदिन पांच गांवों में संपर्क का लक्ष्य रखा है। सहजनवां विधानसभा के कटाई टिकट गांव के बूथ रक्षक हरेंद्र यादव ने गुरुवार से ही पार्टी समर्थकों से मिलना-जुलना तेज कर दिया है। जबतक मतदान नहीं हो जाएगा, वह नियमित प्रत्येक मतदाताओं से संपर्क करेंगे।

गांव में मौजूद युवा कार्यकर्ताओ के भरोसे बूथ मजबूत करने की योजना

समाजवादी पार्टी ने गांव-गांव में मौजूद अपने युवा कार्यकर्ताओं के भरोसे बूथों को मजबूत करने की योजना तैयार की है। शिव प्रकाश और हरेंद्र जैसे समाजवादी लोहिया वाहिनी के हजारों कार्यकर्ताओं को बूथ रक्षक बनाकर गांव-गांव में उतारने की कवायद शुरू कर दी है। बूथ रक्षक प्रत्येक बूथ पर पार्टी को मजबूत तो करेंगे ही आम जन में पार्टी की विश्वसनीयता भी बढ़ाएंगे। वह यह सुनिश्चित करेंगे कि समाजवादी पार्टी में ही सभी वर्गों का सम्मान सुनिश्चित है।

युद्ध स्‍तर पर बनाए जा रहे हैं बूथ रक्षक

फिलहाल, गोरखपुर में लोहिया वाहिनी ने युद्ध स्तर पर बूथ रक्षक बनाना शुरू कर दिया है। तीन दिन पहले पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल ने बूथ रक्षक अभियान का वर्चुअल शुभारंभ किया। जिसमें गोरखपुर जनपद के सपा पदाधिकारियों के अलावा समाजवादी लोहिया वाहिनी के पदाधिकारी भी शामिल थे। लोहिया वाहिनी के जिलाध्यक्ष गबिश दूबे बताते हैं कि जनपद में करीब चार हजार बूथ हैं। प्रत्येक बूथ पर दस-दस बूथ रक्षक बनाए जाने हैं। जो बूथ के सभी मतदाताओं को सहेजने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे।

एक सप्‍ताह के अंदर सभी बूथों पर तैनात कर दिए जाएंगे रक्षक

बूथ रक्षक बनाने की शुरुआत हो चुकी है। एक सप्ताह के अंदर सभी बूथों पर रक्षक तैनात कर दिए जाएंगे। रक्षक बनाने के साथ इनकी जिम्मेदारी भी सौंप दी जा रही है, जो ब्लाक स्तर के पदाधिकारियों के सहयोग से मतदाताओं का भरोसा जीतने का कार्य करेंगे। बूथ रक्षक यह तय करेंग कि मतदाता किसी के बहकावे में तो नहीं आ रहे। इसके लिए वे सपा सरकार की उपलब्धियों को तो गिनाएंगे ही सरकार बनने के बाद मिलने वाली सुविधाओं के बारे में भी बताएंगे। साथ ही किसानों और आम जन को बिजली बिल में मिलने वाली रियायत के लिए फार्म भरवाएंगे। बुजुर्गों को समझाएंगे कि सरकार बनी तो प्रत्येक महीना पांच की जगह 1500 रुपये पेंशन भी मिलेगी।

Edited By: Navneet Prakash Tripathi