गोरखपुर, जागरण संवाददाता। देवरिया जिले में तरकुलवा थाना क्षेत्र के ग्राम पंचायत हरैया के दो युवक खाडी देश के दुबई में फंस गए हैं। एजेंट ने झांसे में लेकर उन्‍हें टूरिस्ट वीजा पर दुबई भेजा है। युवकों ने स्वजन के मोबाइल पर कालकर घर वापसी के लिए गुहार लगाई है। इसको लेकर परिवार के लोग परेशान हैं। जनप्रतिनिधियों से घर वापसी के लिए पहल करने की मांग की है।

15 दिन पहले कमाने के लिए दुबई गए थे दोनों युवक

करीब पंद्रह दिन पूर्व दुबई कमाने गए तरकुलवा थाने के ग्राम पंचायत हरैया के दो युवक धोखाधड़ी का शिकार हो गए हैं। हरैया के शैलेष सिंह पुत्र मुंशी सिंह एवं कतवारू शर्मा पुत्र मोतीचंद शर्मा एक माह पूर्व कुशीनगर जिले के कसया थानाक्षेत्र के ग्राम पंचायत नवगांवा के एक एजेंट के संपर्क में आए। एजेंट ने उन्हें दुबई की एक कंपनी में अच्छे वेतन पर काम करने का आफर दिया। एजेंट ने युवकों से 80-80 हजार रुपये लिए। वीजा व पासपोर्ट जमा करा लिया। एजेंट ने दोनों को दुबई भेज दिया।

वाइस मैसेज भेज कर दी घर वालों को जानकारी

वहां से युवकों ने वाइस मैसेज में बताया कि जब वह दुबई पहुंचे तो इनसे कंपनी में काम कराने की बजाय सड़क निर्माण का कार्य कराया जाने लगा। 24 घंटे में एक बार भोजन के रूप में चावल व सब्जी खाने को मिलता है। युवकों ने आपबीती अपने घर वालों से बताकर घर वापसी की गुहार लगाई है। इससे परेशान स्वजन ने एजेंट से संपर्क करने का प्रयास किया तो उसका मोबाइल बंद मिला। पता चला है कि एजेंट ने युवकों को टूरिस्ट वीजा थमा दिया है। स्वजन ने टिकट आदि का इंतजाम कर सांसद एवं विधायक से वतन वापस बुलाने की मांग की है।

लूट की योजना बनाते दो गिरफ्तार

कोतवाली क्षेत्र के भीखमपुर रोड स्थित पुलिया के समीप से लूट की योजना बना रहे दो बदमाशों को 13 अक्‍टूबर की शाम पुलिस ने गिरफ्तार कर आर्म्स एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर चालान कर दिया। सदर कोतवाली के गरुलपार चौकी इंचार्ज भवानी भीख राजभर पुलिस बल के साथ गश्त पर निकले थे। भीखमपुर रोड में पिपरपाती पुलिया के पास दो युवक बैठे थे और लूट की योजना बना रहे थे। पुलिस को आता देख दोनों भागने लगे। पुलिस ने दोनों को दौड़ा कर पकड़ लिया। पूछताछ में दोनों ने अपना नाम विजय शंकर चौरसिया पुत्र जगन्नाथ चौरसिया निवासी रामगुलाम टोला और दूसरे ने प्रकाश तिवारी पुत्र सुनील तिवारी निवासी बड़हरा सदर कोतवाली बताया। दोनों के पास से एक-एक चाकू बरामद हुआ।

 

Edited By: Navneet Prakash Tripathi