गोरखपुर, जेएनएन। कुशीनगर के अंतिम छोर पर स्थित खड्डा थाने के बाढ़ प्रभावित गांव शिवपुर में घुसे घायल तेंदुआ ने बुधवार की सुबह हमला बोलकर महिला सहित दो ग्रामीणों को घायल कर दिया। हमले के बाद ग्रामीण लाठी- डंडा लेकर घरों से निकल पड़े और झाड़ियों में लाठी डंडे से खोजना शुरू कर दिए। इस दौरान गांव से 200 मीटर दूर तेंदुआ मरा हुआ मिला। वन विभाग के अधिकारियों ने बताया पहले से लगी चोट के चलते उसकी मौत हुई है। इसको लेकर गांव में दो घंटे तक दहशत का माहौल बना रहा।

ग्रामीणों ने शुरू की तलाशी, मरा मिला तेंदुआ

बता दें कि बड़ी गंडक नदी के जलस्तर में वृद्घि के कारण रेता क्षेत्र में चारों तरफ पानी भर गया है। बुधवार की सुबह लगभग पांच बजे घायल तेंदुआ बाढ़ प्रभावित गांव शिवपुर में घुसा। उसने सबसे पहले गांव निवासी अर्जुन की पत्नी सरीता देवी पर हमला बोला। उसके बाद गांव के ही 45 वर्षीय छोटेलाल पर घर में घुसकर हमला बोल दिया। दोनों गंभीर रूप से घायल हो गए। इनकी चीख - पुकार सुनकर ग्रामीण जुट गए। दोनो को घायल देखकर गांव के लोग परेशान हो गए। उसके बाद लोगों ने लाठी- डंडा लेकर तेंदुए को झाड़ी में तलाशने का काम शुरू कर दिए। गांव के पास काफी झाडि़यां हैं, इसलिए ग्रामीणों का शक था कि तेंदुआ भागकर यहीं कहीं छिपा होगा। सभी ग्रामीण सतर्कता पूर्वक झाडि़यों की तरफ बढ़ने लगे। उसकी तलाश में ग्रामीण गांव से 200 मीटर आगे पहुंचे तो तेंदुआ झाड़ी में मरा हुआ मिला।

पहले से घायल था तेंदुआ

इधर देर से गांव पहुंची वन विभाग की टीम तेंदुआ के शव को पोस्टमार्टम के लिए गोरखपुर भेजी। रेंजर खड्डा बी के यादव ने बताया कि पोस्टमार्टम के बाद ही मौत का कारण पता चल सकेगा। उसके पैर पर चोट के निशान हैं। बताया जा रहा है कि वह पहले से घायल था और गांव में घुस आया।

Edited By: Satish Chand Shukla