गोरखपुर, जागरण संवाददाता। महराजगंज में परिवहन निगम के परिचालकों और यात्रियों के लिए अच्छी खबर है। मैनुअल टिकट को लेकर हो रही किचकिच और दिक्कत अब दूर होने वाली है। शासन स्तर से इलेक्ट्रानिक टिकटिंग मशीन (ईटीएम) के लिए नए सेवा प्रदाता से अनुबंध किया गया है। जल्द ही परिचालकों के हाथों में नई ईटीएम होगी। इसी के साथ इनके लोकेशन पर भी विभाग की नजर रहेगी।

117 में से खराब है 102 मशीन

महराजगंज बस डिपो में कुल 117 इलेक्ट्रानिक टिकटिंग मशीन हैं, लेकिन इसमें 102 खराब है। सिर्फ 15 मशीन ही काम कर रहीं। परिचालक मैनुअल टिकट काट रहे हैं। लेकिन टिकट पर न तो स्पष्ट रूप से डिटेल भरने का काम हो रहा है और न ही गाड़ी नंबर की जानकारी लिखी जा रही है। जिससे यात्रियों और परिचालकों में आए दिन किचकिच होती है। इलेक्ट्रानिक टिकटिंग मशीन उपलब्ध कराने वाली संस्था का अनुबंध समाप्त होने के कारण विभाग के समक्ष भी परेशानी खड़ी हो गई थी। लेकिन नई ईटीएम मिलने से इस समस्या पर विराम लग सकेगा। परिचालक मैनुअल टिकट नहीं काटेंगे। इससे गड़बड़ी पर भी रोक लगेगी और बस का लोकेशन ट्रेस करना आसान होगा।

इस तहर से काम करती है ईटीएम

ईटीएम एक्टिवेट करने के लिए सिम का प्रयोग किया जाता है। सिम से ही इंटरनेट स्टार्ट हो जाएगा। डिपो के अंदर ही कंट्रोल रूम होगा। वहां बैठा आपरेटर इंटरनेट की मदद से बस की लोकेशन भी चेक कर सकेगा। ईटीएम से बस के चलने का समय, किराए की जानकारी, किलोमीटर, टोल टैक्स, बस रूट आदि की स्थिति स्पष्ट हो सकेगी।

सेवा प्रदाता से शासन स्‍तर पर हुआ अनुबंध

एआरएम महेंद्र पांडेय ने बताया कि नये सेवा प्रदाता मै. ओरियन प्रो. ट्रांजिट साल्यूशन प्राइवेट लिमिटेड मुम्बई से शासन स्तर से अनुबंध हुआ है। जन सामान्य को इस आधुनिक टिकटिंग व्यवस्था के तहत नकद भुगतान के साथ-साथ डेबिट, क्रेडिट कार्ड, स्मार्ट कार्ड, क्यूआर कोड, आधारित व यूपीआइ मोड से बस टिकट प्राप्ति की व्यवस्था शुरू हो जाएगी। इसके अलावा शीघ्र ही भारत सरकार की अपेक्षा अनुरूप वन नेशन वन कार्ड कार्यक्रम के अंतर्गत एक ही कार्ड द्वारा विभिन्न परिवहन साधनों की सुविधा भी प्राप्त होगी।

Edited By: Navneet Prakash Tripathi