गोरखपुर, जागरण संवाददाता। फर्टिलाइजर में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कार्यक्रम को लेकर पुलिस ने सुरक्षा-व्यवस्था का खाका तैयार कर लिया है।सात दिसंबर को उनके फर्टिलाइजर में आने से पहले ही सभास्थल के आसपास के इलाके को नो फ्लाइंग जोन घोषित कर दिया जाएगा। इस दौरान पतंग व गुब्बारा उड़ाने पर प्रतिबंध रहेगा। एडीजी जोन अखिल कुमार, कमिश्नर रवि एनजी व एसएसपी डा. विपिन ताडा ने पुलिस अधिकारियाें संग बैठक कर सुरक्षा व यातायात-व्यवस्था पर मुहर लगाई।सुरक्षा के लिहाज से जिले की पुलिस के साथ ही सभी खुफिया एजेंसी को हाई अलर्ट पर रखा गया है।

एडीजी, कमिश्नर और एसएसपी ने बैठक कर सुरक्षा-व्यवस्था पर लगाई मुहर

सुरक्षा के लिहाज से शहर व कार्यक्रम स्थल के आसपास होटल, ढाबा की चेकिंग शुरू कर दी गई है। स्थानीय पुलिस ने अपने-अपने क्षेत्र में स्थित होटल संचालकों से बात करके बाहर से आने वालों की सूचना देने को कहा है।कार्यक्रम स्थल पर आने और बाहर जाने के रास्तो पर सीसी कैमरे लगवाएं जा रहे हैं। महेसरा ताल में एनडीआरएफ की टीम मुस्तैद रहेगी। सुरक्षा में लगे पुलिस वालों छह दिसंबर की शाम को ड्यूटी प्वाइंट पर तैनात हो जाएंगे। एडीजी अखिल कुमार, कमिश्नर रवि कुमार एनजी, एसएसपी डा. विपिन ताडा ने फर्टिलाइजर परिसर स्थित कार्यक्रम स्थल पर पहुंचकर सुरक्षा-व्यवस्था की समीक्षा की। एडीजी अखिल कुमार ने बताया कि सुरक्षा का प्लान तैयार कर लिया गया है। एसपीजी की टीम भी आ गई है। सुगम यातायात के लिए कार्यक्रम के दिन रुट डायवर्जन होगा। जिसको लेकर तैयारी चल रही है।

इतनी फोर्स रहेगी तैनात

प्रधानमंत्री की सुरक्षा व्यवस्था में दो डीआइजी, आठ एसपी, 20 एडिशनल एसपी, 55 सीओ, 13 कंपनी पैरामिलिट्री समेत 4000 पुलिसकर्मियों की ड्यूटी लगी है।छह दिसंबर की शाम को ही फोर्स फर्टिलाइजर में तैनात हो जाएगी।बाहर से आने वाली फोर्स को कार्यक्रम स्थल के पास ही ठहराया जाएगा।

बिना अनुमति उड़ाया ड्रोन तो मार गिराएगी पुलिस

सावर्जनिक स्थान के साथ ही शादी-विवाह में बिना अनुमति के ड्रोन से फोटोग्राफी नहीं होगी। ड्रोन से फोटोग्राफी व वीडियो बनाने वालों का रजिस्ट्रेशन होगा। प्रतिबंधित क्षेत्र में बिना अनुमति के अगर किसी ने ड्रोन उड़ाया तो खतरे को भांपकर पुलिस मार गिराएगी।

एयरफोर्स, एम्स व मेडिकल कालेज में बनेगा रेफरल असपताल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आगमन को लेकर स्वास्थ्य विभाग ने तैयारियां तेज कर दी है। फ्लीट व सेफ हाउस में 40 डाक्टरों व लगभग 50 पैरामेडिकल स्टाफ की ड्यूटी लगाई जाएगी। प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री व राज्यपाल के लिए एयरपोर्ट व फर्टिलाइजर में तीन-तीन फ्लीट व तीन-तीन सेफ हाउस बनाए जाएंगे। इसके अलावा बीआरडी मेडिकल कालेज, एम्स व एयरफोर्स अस्पताल में रेफरल अस्पताल बनेगा। राज्यपाल की फ्लीट व सेफ हाउस में महिला डाक्टर व स्टाफ नर्स की भी तैनाती होगी। प्रधानमंत्री के फ्लीट व सेफ हाउस में चार-चार डाक्टर तथा मुख्यमंत्री व राज्यपाल के फ्लीट व सेफ हाउस में तीन-तीन डाक्टरों की ड्यूटी लगाई जाएगी।

सीएमओ डा. सुधाकर पांडेय ने बताया कि इसके अलावा दो डाक्टरों की भोजन की जांच में तथा दो की हेलीपैड पर ड्यूटी लगाई जाएगी। इन सभी डाक्टरों की निगरानी की जिम्मेदारी एसीएमओ डा. एके प्रसाद व डा. एके चौधरी को दी गई है। इस तरह दो एसीएमओ सहित 46 डाक्टर तैनात किए जाएंगे। डाक्टरों के लिए देवरिया, कुशीनगर व महराजगंज स्वास्थ्य विभाग को पत्र लिखा गया है। साथ ही एयरपोर्ट व फर्टिलाइजर को सेफ हाउस बनाने के लिए पत्र जारी किया गया है।

Edited By: Pradeep Srivastava