गोरखपुर, जागरण संवाददाता। सिद्धार्थनगर जिले में धान खरीद की तैयारियां शुरू हो गई हैं। विभाग ने क्रय केंद्रों की सूची जारी कर दी है। धान बेचने के लिए आने वाले किसानों को किसी प्रकार की परेशानी का सामना नहीं करना पड़े, इसका पूरा ख्याल रखा जाएगा। शासन ने इस संबंध में दिशानिर्देश जारी किया है। क्रय केंद्र के पास बने पार्किग बनेगी, जिसमें वाहन खड़ा किया जाएगा। किसानों के बैठने की भी व्यवस्था होगी। पीने के लिए पानी भी मिलेगा। बारिश होने पर धान की सुरक्षा के लिए त्रिपाल भी वहां पर मौजूद रहेगा।

तीन एजेंसियों के 45 क्रय केंद्रों की तैयार की गई सूची

प्रशासन ने धान खरीद की तैयारी शुरू कर दी है। तीन एजेंसियों के 45 क्रय केंद्र की सूची तैयार की है। तहसीलवार खरीद के लिए क्रय केंद्रों का नाम अनुमोदन के शासन के पास भेजा गया है। सूची में खाद्य विभाग के 17, पीसीएफ के 27 व एफसीआइ का केंद्र हैं। सभी केंद्रों पर तौल करने के लिए दो इलेक्ट्रिक कांटा लगेगा। नमी मापक यंत्र से धान की गुणवत्ता मापी जाएगी। डबल जाली छन्ना, बड़ा पंखा व पाव डस्टर भी मौजूद रहेगा। मंडी परिसर के बाहर के केंद्रों के लिए यह उपकरण उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी संबंधित एजेंसी की होगी।

खाद्य विभाग ने यहां खोला है धान क्रय केंद्र

नौगढ़ तहसील में धेंसा नानकार, मंडी नौगढ़, उसका बाजार, महदेवा कुर्मी, करौंदा मसिना, शोहरतगढ़ में अकरा, बढ़नी, घरुआर, बांसी में नगर, मिठवल, तिलौला, खेसरहा, इटवा में कस्बा, खुनियांव और डुमरियागंज के सहियापुर मंडी में तीन क्रय केंद्र।

पीसीएफ ने यहां खोला है धान क्रय केंद्र

नौगढ़ में बेल्टीकर, पकड़ी चौराहा, गढ़मोर, सिकरी बाजार, बैजनाथपुर, बर्डपुर, जोगिया, शोहरतगढ़ में कस्बा, अलीदापुर, जम्हिरिया, बोहली, बांसी में बगहवा कोमर, नचनी, तिलौली महुआ, भेड़ौहा, बिशुनपुर, इटवा में संग्रामपुर, मटेसर नानकार, राजपुर, खुनियांव, भिलौरी भिलौरा और डुमरियागंज के मानिकगंज, कंचनपुर भारतभारी, वासाचक, बढ़नीचाफा, दलपतपुर व रमवापुर जगतराम। एफसीआइ ने डुमरियागंज में सहियापुर मंडी में क्रय केंद्र खोला है।

समय से शुरू होगी खरीद

डिप्‍टी आएमओ आरपी पटेल बताते हैं कि धान क्रय केंद्रों की सूची तैयार हो गई है। यहां पर समय से खरीद शुरू कराया जाएगा। किसानों को किसी प्रकार की असुविधा नहीं हो, इसका पूरा ध्यान रखा जा रहा है। इसके लिए सभी क्रय केंद्रों को निर्देशित किया गया है।

Edited By: Navneet Prakash Tripathi