Move to Jagran APP

हद ही हो गई, 1.64 लाख लोग भूल गए दूसरी डोज लगवाना

कोविड टीकाकरण अभियान पूरा होने में दूसरी डोज भूल गए लोग बाधा बन सकते हैं। 164649 लोग समय बीतने के बाद भी दूसरी डोज नहीं लगवाए हैं। इनमें 117325 लोगों ने कोविशील्ड व 47324 ने कोवैक्सीन की पहली डोज तो लगवा ली।

By Rahul SrivastavaEdited By: Published: Thu, 07 Oct 2021 03:15 PM (IST)Updated: Thu, 07 Oct 2021 03:15 PM (IST)
1.64 लाख लोगों ने नहीं ली कोविड की दूसरी डोज। प्रतीकात्मक तस्वीर

गोरखपुर, जागरण संवाददाता : कोविड टीकाकरण अभियान पूरा होने में दूसरी डोज भूल गए लोग बाधा बन सकते हैं। 164649 लोग समय बीतने के बाद भी दूसरी डोज नहीं लगवाए हैं। इनमें 117325 लोगों ने कोविशील्ड व 47324 ने कोवैक्सीन की पहली डोज तो लगवा ली। 28 दिन बीत गए, लेकिन उन्होंने दूसरी डोज नहीं ली है। दूसरी डोज लगवाए बिना उनका सुरक्षा चक्र पूरा नहीं होगा। पुन: संक्रमण लौटने पर ऐसे लोगों को दिक्कत हो सकती है। जिले में टीकाकरण की शुरुआत 16 जनवरी को हुई थी। शुरुआत में लोग टीका नहीं लगवा रहे थे।

बड़ी संख्या में लोग पहुंचने लगे हैं बूथों पर

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने स्वयं पहल करके टीका लगवाया और लोगों को बताया कि इससे किसी तरह का नुकसान नहीं है। बावजूद इसके बड़ी संख्या में लोगों ने रुचि नहीं दिखाई, लेकिन दूसरी लहर की भयावहता सामने आई तो बड़ी संख्या में लोग बूथों पर पहुंचने लगे। कोरोना का संक्रमण होते ही पुन: लापरवाही बरती जाने लगी है। बड़ी संख्या में लोगों ने पहली डोज तो लगवा ली लेकिन दूसरी डोज के लिए आगे नहीं आ रहे हैं। कोविशील्ड की दूसरी डोज 84 दिन तथा कोवैक्सीन की 28 दिन बाद लगती है। 1.64 लाख लोगों का पहली डोज लगवाने के बाद यह समय बीत चुका है।

पहली डोज लेने के बाद बीता समय

कोवैक्सीन

20800 लोगों के पहली डोज लगवाने के बाद बीत चुके हैं 28 दिन

26524 लोगों के बीत चुके 112 दिन

कोविशील्ड

34425 लोगों के पहली डोने के बाद बीत चुके हैं 84 दिन

82900 लगों के बीत चुके हैं 112 दिन

दूसरी डोज न लेने वालों की हो रही तलाश

सीएमओ डा. सुधाकर पांडेय ने कहा कि समय बीतने के बाद दूसरी डोज न लेने वालों की तलाश की जा रही है। कोविड कमांड सेंटर से फोन कर लोगों से पूछा गया तो ज्यादातर लोगों ने बताया कि उन्होंने दूसरी डोज लगवा ली है, लेकिन पोर्टल पर शो नहीं कर रहा है। अनेक निजी अस्पतालों ने अपडेट नहीं किया। जिनका भी समय हो गया हो, वे बूथों पर जाकर टीका लगवा लें। वैक्सीन की कमी नहीं है।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.