गोरखपुर, जेएनएन। चीन में एमबीबीएस कर रहीं गीडा सेक्टर-23 की रहने वाली संजना शर्मा के वापस लौटने के बाद शुक्रवार को स्वास्थ्य विभाग की टीम ने उनके घर पहुंच कर उनकी सेहत की जांच की। जांच में कोरोना के लक्षण नहीं मिले। फिर भी सतर्कता की दृष्टि से उन्हें एक अलग कमरे में रखा गया है और 14 दिन तक स्वास्थ्य विभाग उनकी निरंतर निगरानी करेगा।

डाक्‍टर ने घर पहुंचकर की जांच

जानकारी के अनुसार सहजनवां स्थित एक कंपनी में काम करने वाले मऊ जनपद के संजय शर्मा की पुत्री संजना शर्मा चीन के सिजियाझांग स्थित हिबई मेडिकल यूनिवर्सिटी से एमबीबीएस की पढ़ाई कर रही हैं। गत गुरुवार को वह गोरखपुर पहुंची। एयरपोर्ट पर भी जांच की गई लेकिन उनमें कोरोना के लक्षण नहीं मिले। शुक्रवार को जिला अस्पताल के डॉ. शैलेंद्र द्विवेदी के नेतृत्व में टीम ने उनके घर पहुंचकर भी जांच की। उनके परिजनों को भी मास्क दे दिए गए।

थाईलैंड होकर लौटना पड़ा देश

संजना शर्मा ने बताया कि परिजनों के कहने के बाद कॉलेज से 40 बच्चों का दल भारत वापस आया, जिसमें उत्तर प्रदेश, दिल्ली व दक्षिण भारत के बच्चे शामिल रहे। चीन से फ्लाइट के जरिए थाईलैंड और वहां से बंगलुरू व दिल्ली होते हुए वह गोरखपुर पहुंचीं। साथ में पढऩे वाले किसी भी बच्चे के अंदर कोरोना वायरस की पुष्टि नहीं हुई है।

सोनौली सीमा पर विदेशी नागरिकों की हुई स्क्रीनिंग

भारत-नेपाल के सोनौली बार्डर पर आव्रजन कार्यालय में कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर शुक्रवार को भी लोगों की स्क्रीनिंग की गई है। शाम पांच बजे तक भारत से नेपाल जाने वाले विदेशी पर्यटकों की जांच की गई गई। सुबह दस बजे से ही शिविर में डा. अशोक कुमार, डा.सुरेंद्र कुमार, फार्मासिट अशोक कुमार व अभय चौधरी स्क्रीङ्क्षनग में जुटे रहे। इस दौरान चीन, आस्ट्रेलिया, कोरिया, व थाईलैंड के नागरिकों की जांच हुई। सभी पर्यटकों में कोरोना वायरस संक्रमण के कोई लक्षण नहीं मिले। अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डा. आइए अंसारी ने कहा कि जनपद में स्थिति सामान्य है। 

Posted By: Satish Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस