संतकबीर नगर: सरयू नदी धनघटा तहसील क्षेत्र के तेजपुर व गायघाट गांव के पास तेजी से कटान कर रही है। इससे इन गांवों के लोगों में दहशत बना हुआ है। गांववासियों को बर्बादी की चिता सता रही है। इसके अलावा नदी के किनारे बसे अन्य गांवों के लोग भी इस नदी के रूख को लेकर चितित हैं। डीएम के निर्देश के बाद भी गायघाट गांव को तहसील प्रशासन खाली नहीं करा पाया है। वहीं तेजपुर गांव के पास सरयू नदी बंधे से लगभग 400 मीटर की दूरी पर तेज गति से कटान कर रही है।

धनघटा तहसील क्षेत्र में पहले सरयू नदी गायघाट गांव के पास लगभग एक पखवाड़े से कटान कर रही थीं। इससे लगभग 14 घरों के ग्रामीण कटान की जद में आने के करीब पहुंच चुके थे। डीएम ने इस गांव को खाली करवाने का निर्देश भी दिया लेकिन अभी तक इस गांव को खाली नहीं कराया जा सका है। इससे खतरे की आशंका बढ़ती जा रही है। वहीं तेजपुर गांव के पास भी सरयू नदी बंधे से लगभग 400 मीटर की दूरी पर तेज गति से कटान कर रही है। अगर इसी तरह से कटान आगे भी जारी रही तो बंधे के करीब पहुंचने में अब ज्यादा समय नहीं लगेगा। तेजपुर गांव के निवासी रामसुमेर, घरभरन, मुनेश आदि लोगों का कहना है कि वर्ष 2007 में सरयू नदी कटान करते हुए बंधे के करीब पहुंच चुकी थीं। इससे ग्रामीणों पर खतरा मंडराने के साथ ही बंधे का अस्तित्व भी खतरे में पड़ गया था । सरयू नदी कटान करते हुए आगे बढ़ रही है। यदि तहसील प्रशासन व ड्रेनेज खंड विभाग जरा भी इसमें चुका तो बंधे पर भारी संकट आ सकता है । इस संबंध में पूछने पर ड्रेनेज खंड के सहायक अभियंता सतीश चंद्र ने बताया कि बंधे की सुरक्षा के लिए विभाग पूरी तरह से लगा हुआ है। कहीं से कोई समस्या नहीं आने दी जाएगी। सरयू नदी कटान कर रही है लेकिन इससे बंधे को कोई खतरा नहीं है।

Edited By: Jagran