गोरखपुर, (जेएनएन)। चुनाव को लेकर दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय के छात्र नेताओं ने शनिवार को एक बार फिर विश्वविद्यालय परिसर में हंगामा किया। क्रीड़ा समारोह के समापन कार्यक्रम में हिस्सा लेने जा रहे कुलपति प्रो. वीके सिंह की गाड़ी को छात्र नेताओं ने रोक लिया। उनके प्रदर्शन को कुलपति ने अनदेखा किया तो नारेबाजी करते हुए छात्रनेता उनकी गाड़ी के सामने लेट गए। मुख्य नियंता प्रो. गोपाल प्रसाद ने पुलिस बल के सहयोग से पहले छात्रनेताओं को समझाने की कोशिश की, लेकिन जब छात्रों ने किसी भी तर्क को सुनने से इनकार कर दिया तो सीओ कैंट के नेतृत्व में पुलिस बल ने छात्रनेताओं को गाड़ी के आगे से खींचकर हटा दिया। तब जाकर कुलपति की गाड़ी आगे बढ़  सकी। विश्वविद्यालय के मुख्य द्वार पर यह रस्साकसी करीब आधे घंटे चली।

विरोध प्रदर्शन का सिलसिला तब शुरू हुआ जब मुख्य द्वार पर जमे छात्रनेता अनिल दुबे और गोलू सिंह ने दोपहर दो बजे कुलपति की गाड़ी को क्रीड़ा परिषद की ओर जाते देखा। गाड़ी रोक यह छात्रनेता प्रदर्शन करने लगे। मांग को लेकर कुलपति की बेरुखी से नाराज छात्रनेताओं ने गाड़ी के आगे लेटने का फैसला कर लिया। पुलिस द्वारा हटाए जाने के बाद छात्र नेताओं ने कहा कि जब तक चुनाव घोषित नहीं हो जाता, प्रदर्शन का सिलसिला जारी रहेगा। शिक्षणेत्तर कार्य तो हरगिज नहीं होने दिया जाएगा।

दीक्षांत का भी होगा विरोध

छात्रनेता अनिल दुबे ने कहा कि चुनाव नहीं हुए तो इस बार दीक्षांत समारोह का भी पुरजोर विरोध किया जाएगा। विरोध प्रदर्शन करने वालों में अनूप यादव, प्रणव द्विवेदी, ऐश्वर्या पांडेय, उत्कर्ष सिंह, संजीव त्रिपाठी, सूरज यादव, गोलू सिंह, मनीष ओझा, नितिन त्रिपाठी, शिवानी मिश्रा, आदित्य त्रिपाठी, इब्राहीम अली, विशाल सिंह, विनय तिवारी, शुभम मिश्र आदि मौजूद रहे।

छात्रनेता शिवशंकर निलंबित

गोरखपुर विश्वविद्यालय के मुख्य नियंता प्रो. गोपाल प्रसाद ने परिसर में अनुशासनहीनता के आरोप में छात्रनेता शिवशंकर गौड़ को निलंबित कर दिया है। निलंबन के साथ ही शिवशंकर के परिसर में प्रवेश पर भी प्रतिबंध लगाया गया है।

Posted By: Pradeep Srivastava