गोरखपुर, जेएनएन। हाईस्कूल की परीक्षा में जिला टॉप करने वाली स्वाति साहनी को समाजवादी पार्टी के बेतियाहाता स्थित कार्यालय पर प्रशस्ति पत्र व 5100 रुपये नकद देकर सम्मानित किया गया। समाजवादी पार्टी के जिला अध्यक्ष नगीना प्रसाद साहनी ने स्वाति को सम्मानित करते हुए कहा की सपा कार्यकाल में बेटियों को आगे बढ़ाने के लिए कन्या विद्याधन लैपटॉप आदि दिया जाता था। इस समय सरकार ध्यान नहीं दे रही है। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने प्रदेश में हाईस्कूल व इंटरमीडिएट के 51-51 टॉपर्स को लैपटॉप देने का निर्णय लिया है। यह अत्यंत सराहनीय है। कार्यक्रम के दौरान डॉ मोहसिन खान, अवधेश यादव, यशपाल रावत, मनोज यादव, श्यामदेव निषाद , देवेंद्र भूषण निषाद, कपिल मुनि यादव, मैना भाई, राहुल गुप्ता, राजेंद्र यादव आदि मौजूद रहे।

आज से मिलेगा विद्यार्थियों को अंक पत्र

उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद की हाईस्कूल व इंटर के उत्तीर्ण विद्यार्थियों को बुधवार से अंकपत्र मलेगा। यह अंक पत्र प्रोविजनल सर्टिफिकेट के रूप में छात्र प्राप्त कर सकेंगे। इसके लिए छात्रों को बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट\क्र ह्वश्चद्वह्यश्च.द्गस्रह्व.द्बठ्ठ पर वांछित जानकारी देकर इसे ऑनलाइन डाउनलोड करना होगा अथवा विद्यालय के प्रधानाचार्य के पास आवेदन कर प्राप्त करना होगा। बोर्ड ने पहले ही स्पष्ट कर दिया था कि कोरोना के कारण विद्यार्थियों को तत्काल अंकपत्र और प्रमाणपत्र वितरण नहीं किया जाएगा। विद्यार्थियों को परेशानी का सामना न करना पड़े इसके लिए विद्यार्थियों को पहली बार प्रोविजनल अंकपत्र और प्रमाणपत्र जारी किए जाएंगे। इस बार कोरोना संकट की वजह से अंकपत्र और प्रमाणपत्र छपने में परेशानी आ रही है। इसलिए स्कूलों से कहा गया है कि वे अंकपत्र वेबसाइट से डाउनलोड करके विद्यार्थियों को वितरित करें। प्रोविजनल सर्टिफिकेट स्कूल में प्रवेश, नौकरी व अन्य कार्यों के लिए अस्थाई रूप से मान्य होंगे। 

इस साल लागू नहीं होगा न्यूनतम समान पाठ्यक्रम

स्नातक स्तर पर न्यूनतम समान पाठ्यक्रम (कॉमन मिनिमम सिलेबस) इस साल लागू नहीं होगा। शासन के राज्य विश्वविद्यालयों में इस पाठ्यक्रम को लागू किए जाने पर रोक के बाद गोरखपुर विश्वविद्यालय में तैयारियां धरी रह गई हैं। कुलपति के निर्देश पर गोरखपुर विश्वविद्यालय के सभी पांचों संकाय की बोर्ड ऑफ स्टडी से पाठ्यक्रम पास हो चुके थे। विवि की एकेडमिक कौंसिल (विद्या परिषद) की बैठक में हरी झंडी मिलनी शेष थी। 29 जून को विद्या परिषद की बैठक भी निर्धारित थी, लेकिन ऐन वक्त शासन के फरमान से फिलहाल तैयारियों पर पानी फिर गया है। शासन के निर्देश के क्रम में कुलसचिव डा. ओम प्रकाश ने संकायाध्यक्षों को पाठ्यक्रम तैयार के लिए पत्र लिखा था। 31 मई तक संकायों को बोर्ड ऑफ स्टडी से पाठ्यक्रम पास कराने का समय दिया गया था। सबसे पहले विज्ञान संकाय के पूर्व संकायाध्यक्ष प्रो.ओपी पांडेय ने इसको लेकर बैठक की। पाठ्यक्रम तैयार होते ही बोर्ड ऑफ स्टडी ने अपनी मुहर भी लगा दी। इसके बाद विधि, शिक्षा, वाणिज्य व कला संकाय ने भी पाठ्यक्रम तैयार कर बोर्ड ऑफ स्टडी से पास कराकर भेज दिया। 

Posted By: Pradeep Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस