बोर्ड की कापियों की जांच में अनर्ह शिक्षक की ड्यूटी लगी तो जिम्मेदार होंगे प्रधानाचार्य Gorakhpur News

गोरखपुर, जेएनएन। यूपी बोर्ड परीक्षा की उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन में अनर्ह शिक्षक की ड्यूटी लगी तो संबंधित विद्यालय के प्रधानाचार्य जिम्मेदार होंगे। बोर्ड ने शिक्षकों व प्रधानाचार्यों को किसी भी गलती से बचने के लिए शिक्षकों के ऑनलाइन सही विवरण उपलब्ध कराने को कहा है। विवरण में खासतौर से शिक्षक की शैक्षिक योग्यता का जिक्र करना होगा।

वेबसाइट पर अपलोड विवरण की पुन: जांच जरूरी

जिला विद्यालय निरीक्षकों को जारी निर्देश में बोर्ड ने स्पष्ट किया है कि वे मान्यता प्राप्त समस्त माध्यमिक विद्यालयों के प्रधानाचार्यों को निर्देश दें कि वह वेबसाइट पर अपलोड विवरण की जांच पुन: कर लें। यदि कोई विसंगति मिलती है तो उसमें तत्काल सुधार कर लें।

31 तक करना है सुधार

बोर्ड ने शिक्षकों व प्रधानाचार्यों के विवरण में त्रुटि में सुधार के लिए 31 जनवरी तक की तिथि निर्धारित की है। इस तिथि तक यदि विवरण में सुधार नहीं होता है और उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन में किसी अनर्ह शिक्षक की ड्यूटी लग जाती है तो इसके लिए सीधे संबंधित विद्यालय के प्रधानाचार्य जिम्मेदार होंगे और उन्हीं के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी।

सही विवरण अपलोड करना आवश्‍यक

माध्‍यमिक शिक्षा परिषद के क्षेत्रीय कार्यालय गोरखपुर के अपर सचिव विनोद कृष्ण का कहना है कि बोर्ड के निर्देश के तहत शिक्षकों व प्रधानाचार्यों को आनलाइन सही विवरण अपलोड करना जरूरी है। जिला विद्यालय निरीक्षकों का दायित्व है कि बोर्ड के निर्देश का अनुपालन सुनिश्चित कराएं।

Posted By: Satish Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस