गोरखपुर, जागरण संवाददाता। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) में हाईस्कूल व इंटर की बोर्ड परीक्षाएं अब ओएमआर शीट पर कराने का चलन शुरू होने वाला है। बोर्ड पहले ही 10वीं और 12वीं की पहले चरण की बोर्ड परीक्षा ओएमआर शीट पर कराने का निर्णय ले चुका है। बोर्ड के निर्णय को देखते हुए जिले के कई स्कूलों ने जहां पहली बार प्री-बोर्ड की परीक्षाएं ओमएमआर शीट पर लेनी शुरू कर दी है वहीं कई में 25 अक्टूबर से शुरू होने वाली है।

प्रयोग सफल हुआ तो बोर्ड परीक्षाएं भी ओएमआर शीट पर ही होंगी

छात्र-छात्राओं के लिए ओएमआर शीट परीक्षाएं देना बिल्कुल नया अनुभव होगा इसलिए स्कूलों ने ओएमआर शीट पर ही इस बार प्री-बोर्ड परीक्षाएं कराने का फैसला लिया है। स्कूलों में ओएमआर शीट पर प्री-बोर्ड परीक्षा बोर्ड परीक्षा के अभ्यास के तौर पर देखा जा रहा है।

कोरोना के कारण बदली व्‍यवस्‍था

कोराेना को देखते हुए सीबीएसई के साथ ही यूपी बोर्ड और सीआइएससीई ने भी सत्र 2021-22 की बोर्ड परीक्षाएं दो चरणों में कराने की घोषणा की है। जिसमें पहले और दूसरे चरण की परीक्षाओं में 50-50 फीसद पाठ्यक्रम पर आधारित प्रश्न आएंगे।

गोरखपुर में विद्यालयों ने प्री-बोर्ड परीक्षाओं को ओएमआर शीट पर कराना शुरू क‍िया

पहले चरण की परीक्षाएं बहुविकल्पीय प्रश्न पत्र प्रणाली (एमसीक्यू) पर होना तय हुआ। जिसमें सीबीएसई ने ओएमआर शीट को शामिल करने का सोच लिया है। बोर्ड के इसी निर्णय को देखते हुए शहर में बोर्ड द्वारा संचालित 185 विद्यालयों ने अपने-अपने स्कूल की प्री-बोर्ड परीक्षाओं को ओएमआर शीट पर कराना शुरू कर दिया है।

बोर्ड द्वारा संचालित सभी स्कूलों में ओएमआर शीट पर प्री-बोर्ड कराएं जा रहे हैं। जिससे हाईस्कूल और इंटर के छात्र ओएमआर शीट पर परीक्षा देने के प्रति सचेत हो जाएं। परीक्षाएं बहुविकल्पीय प्रश्न पत्र प्रणाली पर आधारित होनी है। इसलिए इस परीक्षा के जरिए बच्चे बोर्ड परीक्षा का अभ्यास भी कर लेंगे। - अजीत दीक्षित, जिला समन्वयक, सीबीएसई।

Edited By: Pradeep Srivastava