गोरखपुर, जेएनएन। अब वाहनों के प्रदूषण प्रमाण पत्र बनवाने के लिए लोगों को लंबी लाइन नहीं लगानी पड़ेगी। दफ्तर से छुट्टी लेनी पड़ेगी न ही रात की नींद खराब होगी। अतिरिक्त शुल्क भी नहीं देना पड़ेगा। थाना क्षेत्र के आसपास वाले मुख्य बाजार या कस्बे में ही प्रदूषण प्रमाण पत्र बन जाएगा।

सभी क्षेत्रों में कम से कम एक प्रदूषण जांच केंद्र

शासन ने प्रत्येक थाना क्षेत्र में कम से कम एक प्रदूषण जांच केंद्र खोलने का महत्वपूर्ण निर्णय लिया है। 15 दिन के अंदर सभी जांच केंद्र खुल जाएंगे। दरअसल, पूर्व में सभी ब्लाक क्षेत्र में प्रदूषण जांच खोले जाने थे, लेकिन अब ब्लाक की जगह थाना क्षेत्र में खोलने का फैसला हुआ है।

शहर में भी बढ़ेगी संख्‍या

इसके लिए परिवहन आयुक्त ने सभी संभागीय परिवहन अधिकारियों को दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं। सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी (प्रशासन) श्याम लाल के अनुसार जनपद के प्रत्येक थाना क्षेत्र में प्रदूषण जांच खोलने के लिए दिशा-निर्देश मिला है। निर्धारित समय सीमा में इसका अनुपालन सुनिश्चित किया जाएगा। शहर में भी प्रदूषण जांच केंद्रों की संख्या बढ़ाई जाएगी। वर्तमान में 16 जांच केंद्र संचालित हैं।

फिटनेस जांच के लिए खुलेंगे निजी परीक्षण केंद्र

अब वाहन चालकों को फिटनेस जांच के लिए परेशान नहीं होना पड़ेगा। उन्हें भागकर आरटीओ दफ्तर भी नहीं पहुंचना पड़ेगा। बाजार में ही वाहनों का फिटनेस जांच हो जाएगी। इसके लिए जगह-जगह निजी परीक्षण केंद्र खोले जाएंगे।

स्‍थापना की प्रक्रिश शुरू

संभागीय परिवहन अधिकारी भीमसेन सिंह के अनुसार शासन के दिशा-निर्देश पर प्राधिकृत परीक्षण केंद्र की स्थापना की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। परीक्षण केंद्रों के लिए आवेदन मांगे जा रहे हैं। प्राधिकृत परीक्षण केंद्र से ही स्वस्थता प्रमाण पत्र जारी होंगे। परिवहन विभाग परीक्षण केंद्र को मान्यता प्रदान करेगा। इस नई व्यवस्था से आम लोगों को सहूलियत मिलेगी। 

Posted By: Satish Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस