गोरखपुर। गोरखपुर में बड़े निवेश आकर्षित करने के लिए गोरखपुर औद्योगिक विकास प्राधिकरण (गीडा) भी अपने स्तर पर प्रयास कर रहा है। जमीन की कीमत निवेश की राह में बड़ा रोड़ा होती थी। इससे निपटने के लिए बड़े निवेशकों को औद्योगिक गलियारे में जमीन की कीमत में राहत भी प्रदान की जा रही है। हाल ही में पेप्सिको की बाटलिंग कंपनी वरुन बेवरेजेस को एक हजार 71 करोड़ रुपये का निवेश करने के लिए जमीन आवंटित की गई है। कंपनी को यह जमीन करीब 4710 रुपये प्रति वर्ग मीटर की दर से दी गई है। अभी भी औद्योगिक गलियारे में जमीन की कीमत गीडा के अन्य क्षेत्रों की तुलना में कम रखा गया है।

जमीन की कीमत कम कर औद्योगिक गलियारे में आकर्षित कर रहे निवेश

गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस वे के किनारे विकसित हो रहे औद्योगिक गलियारे में बड़े निवेश कराने की योजना है। कई कंपनियों की ओर से गीडा प्रबंधन से संपर्क भी किया जा रहा है। वरुन बेवरेजेस ने यहां जमीन भी हासिल कर ली है और जल्द ही प्लांट का निर्माण कार्य भी शुरू करा दिया जाएगा। गीडा में आमतौर पर जमीन की कीमत छह हजार रुपये प्रति वर्ग मीटर रही है। वर्ष 2022-23 के लिए दर निर्धारण समिति ने जमीन का मूल्य निर्धारित किया है। औद्योगिक गलियारे में चार हजार वर्ग मीटर क्षेत्रफल तक की जमीन छह हजार रुपये प्रति वर्ग मीटर की दर से दी जाएगी। 80 हजार वर्ग मीटर तक की जमीन की कीमत 4800 रुपये प्रति वर्ग मीटर निर्धारित की गई है। वरुन बेवरेजेस को जमीन मिलने के बाद कई और कंपनियां औद्योगिक गलियारे में जमीन तलाश रही हैं।

भीटी रावत में जमीन की है यह कीमत

दर निर्धारण समिति ने भीटी रावत में जमीन की कीमत में परिवर्तन किया है। चार हजार वर्ग मीटर क्षेत्रफल तक की जमीन 6520 रुपये में मिलेगी। पिछले साल की तुलना में 520 रुपये की बढ़ोत्तरी की गई है। चार हजार एक से 20 हजार वर्ग मीटर तक की जमीन इस क्षेत्र में 6090 रुपये प्रति वर्ग मीटर की दर से भुगतान कर प्राप्त की जा सकेगी। 80 हजार वर्ग मीटर से अधिक जमीन लेनी हो तो 5220 रुपये प्रति वर्ग मीटर देने होंगे। पहले से विकसित सेक्टर 13 व 15 में जमीन की कीमत में भी परिवर्तन किया गया है। यहां 6520 से 6360 रुपये प्रति वर्ग मीटर तक जमीन की कीमत देनी होगी।

निवेशकों को आकर्षित करने के लिए औद्योगिक गलियारे में जमीन की कीमत भी अपेक्षाकृत कम रखी गई है। कंपनियों से बातचीत के आधार पर उन्हें नियमानुसार ऐसी कीमत पर जमीन दी जा रही है, जिससे वे निवेश के लिए आकर्षित हो सकें। - पवन अग्रवाल, सीईओ गीडा।

Edited By: Pradeep Srivastava

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट