गोरखपुर, जागरण संवाददाता। गोरखपुर शहर की प्रमुख सड़कों पर पैदल यात्रियों के आवागमन के लिए (पेडेस्ट्रियन) पाथ-वे बनाया जाएगा। सभी फोर लेन एवं टू लेन सड़कों के किनारे ऐसा पाथ वे बनाया जाएगा। जिलाधिकारी ने इस संबंध में बैठक की है और इसकी जिम्मेदारी गोरखपुर विकास प्राधिकरण (जीडीए) एवं पीडब्ल्यूडी को दी गई है। सड़कों के दोनों किनारों पर बने नालों पर पेडेस्ट्रियन पाथ वे बनाए जाएंगे। शहर के किसी भी चौराहे पर पैदल यात्रियों के लिए पाथ वे नहीं है इसलिए हर चौराहे पर भी यह व्यवस्था की जाएगी।

शहर की सभी सड़कों के किनारे फुटपाथ लगभग समाप्त हो चुके हैं। कई स्थानों पर अतिक्रमण भी चिह्नित किए गए हैं। अतिक्रमण हटाने के लिए टीम भी बनाई गई है। जिलाधिकारी विजय किरन आनंद ने बताया कि इस काम को प्राथमिकता पर पूरा कराया जाएगा।

इन सड़कों पर बनेंगे पाथ वे

धर्मशाला से गोरखनाथ, मोहद्दीपुर से विश्वविद्यालय चौराहा, खजांची से पादरी बाजार, असुरन से मेडिकल कालेज, विश्वविद्यालय चौराहा से छात्रसंघ चौराहा, छात्रसंघ चौराहा से पैडलेगंज रोड पर पाथ वे बनाने की तैयारी है। इसके साथ ही सभी प्रमुख चौराहों पर भी पाथ वे बनाने की तैयारी है। सुरक्षित आवागमन के लिए पाथवे के दोनों ओर नेट भी लगाए जाएंगे। पाथ वे को इस तरह से डिजाइन किया जाएगा कि कोई दोपहिया वाहन लेकर उसपर न चढ़ सके।

हटाया जाएगा अतिक्रमण

कचहरी से गोलघर के गणेश चौराहा होते हुए काली मंदिर तक, एमपी कालेज से जिला पंचायत होते हुए कचहरी चौराहा तक, विश्वविद्यालय चौराहे से रेलवे बस स्टेशन, राजकीय पालीटेक्निक से असुरन चौक तक, गुरुंग चौराहे से इंजीनियरिंग कालेज तक फुटपाथ पर अतिक्रमण है। इन क्षेत्रों में जल्द ही अभियान चलाकर अतिक्रमण हटाया जाएगा। इसके साथ ही गुरुंग तिराहे से अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) की ओर जाने वाली सड़क, असुरन से मेडिकल कालेज तक सड़क किनारे से अतिक्रमण हटाने की तैयारी है।

Edited By: Pradeep Srivastava