गोरखपुर, जेएनएन। यूपी बोर्ड की कॉपियों के मूल्यांकन के लिए परीक्षकों की संख्‍या बढ़ती जा रही है। पहले दिन जहां 1017 परीक्षक उपस्थित रहे वहीं दूसरे दिन यह संख्या बढ़कर 1187 तक पहुंच गई। समय से मूल्यांकन शुरू होने के कारण कुल 67871 कॉपियों का मूल्यांकन हुआ। इस बीच जेडी व डीआइओएस ने केंद्रों का निरीक्षण कर व्यवस्था का जायजा लिया।

मारवाड़ इंटर कालेज में भी शुरू हुआ मूल्‍यांकन

मारवाड़ इंटर कॉलेज मूल्यांकन केंद्र पर भी हाईस्कूल सामाजिक विज्ञान विषय की कापियों का मूल्यांकन शुरू हो गया। फिजिकल डिस्टेंसिंग के पालन के लिए एमएसआइ इंटर कॉलेज पर मूल्यांकन कार्य में लगाए गए इस विषय के 530 परीक्षकों व 53 डिप्टी हेड को यहां स्थानांतरित किया गया है। संयुक्त शिक्षा निदेशक योगेंद्रनाथ सिंह ने मूल्यांकन कार्य का जायजा लेते हुए जरूरी निर्देश दिए। डीआइओएस ज्ञानेंद्र प्रताप सिंह भदौरिया ने महाराणा प्रताप इंटर कॉलेज मूल्यांकन केंद्र पहुंचकर परीक्षकों की समस्याओं से रूबरू हुए।

शिक्षक संगठनों ने जताया विरोध

शिक्षक संगठनों का मूल्‍यांकन केंद्रों पर विरोध का क्रम जारी है। शिक्षक संगठनों ने एमपी इंटर कॉलेज, सेंट एंड्रयूज इंटर कॉलेज और एमएसआइ इंटर कॉलेज में फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं किए जाने को लेकर विरोध जताया।

मूल्‍यांकन केंद्रों पर अव्‍यवस्‍था को लेकर हो रहा विरोध

शिक्षक संगठनों का कहना है कि मूल्यांकन केंद्रों पर अव्यवस्था को लेकर विरोध किया जा रहा है। मूल्‍यांकन कराने के पहले सभी केंद्रों पर कोरोनावायरस के मद्देनजर डिस्‍टेंसिंग का पालन नहीं किया जा रहा है। इससे परीक्षक सुरक्षित नहीं है। उन्‍होंने कहा कि मूल्‍यांकन केंद्रों पर बेहतर व्‍यवस्‍था उपलब्‍ध कराई जाए। विरोध करने वालों में उप्र माध्यमिक शिक्षक संघ चेतनारायण गुट के मंडलीय मंत्री रणजीत सिंह,  जिलाध्यक्ष जैनेंद्र कुमार सिंह, मंत्री राजेश चंद्र चौधरी, (शर्मा गुट) के जिलाध्यक्ष डॉ. दिग्विजयनाथ पांडेय, मंत्री श्याम नारायण सिंह और ठकुराई गुट के प्रांतीय मंत्री देवेंद्र प्रताप सिंह गौतम, जिलाध्यक्ष हीरालाल गौड़, मंडलीय मंत्री दुर्गेश पांडेय आदि शामिल रहे।

Posted By: Satish Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस