गोरखपुर, जागरण संवाददाता : एसएसबी 43वीं वाहिनी के जवानों ने बुधवार की देर रात शोहरतगढ़ थाना क्षेत्र के खुनुवा बार्डर के पास 4.110 किलो चांदी के जेवरात के साथ एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। उसका नाम शोहरतगढ़ थाना क्षेत्र के सियांव गांव निवासी विशंभर केवट है।

सीमा पर गश्त कर रहे थे एसएसबी के जवान

एसएसबी के जवान सीमा पर गश्त कर रहे थे। इसी दौरान पगडंडी के रास्ते एक व्यक्ति नेपाल की ओर जाते हुए दिखाई दिया। जवानों ने उसे रोक पूछताछ शुरू की। संदेह के आधार पर हाथ में लिए झोले को चेक किया, जिसमें रखे चांदी के जेवरात बरामद हुए। पूछताछ में उसने बताया कि वह कैरियर का काम करता है। जेवरात को इसे नेपाल के तौलिहवा बाजार के एक व्यापारी के यहां पहुंचाना था। चांदी के जेवरात की कीमत मूल्य का सोना मिलता, जिसे शोहरतगढ़ के एक व्यापारी को देना था। इस काम के लिए उसे रास्ते के खर्च के अलावा दो हजार रुपये मेहनताना मिलता है। कार्रवाई करने वाली टीम में एसआइ एसएसबी राकेश कुमार सिंह पटेल, मुख्य आरक्षी कपिल कुमार, प्रकाश राय, आरक्षी मुकेश कुमार, अनिरुद्ध सिंह आदि मौजूद रहे।

अर्से से चल रहा तस्करी का खेल

इंडो-नेपाल बॉर्डर पर अर्से से तस्करी का खेल चल रहा है। खुली सीमा का फायदा उठाते हुए तस्कर भारत से चांदी के आभूषण नेपाल ले जाते हैं। उधर से सोना लाते हैं। सोना में शुद्धता की गारंटी होती है। इस अवैध कारोबार में जिले के कुछ ऐसे नामचीन व्यापारी हैं, जो एक दशक में फर्श से अर्श तक पहुंच गए। बार्डर के कस्बों में इन्होंने गुमटियां खोल रखी हैं, जहां से आभूषणों का आदान-प्रदान भी होता है। तस्करी के मामले में एक संगठन के जुड़े पदाधिकारी का भतीजा भी नेपाल जेल में बंद है। तस्करी की चांदी मथुरा से आती है, जो नेपाल के विभिन्न जनपदों तक भेजी जाती है। जिसके शुद्धता की गारंटी सिर्फ 50 फीसद होता है।

सीमा पर पकड़े जा चुके हैं तस्करी के कई मामले

एसएसबी 43वीं वाहिनी के कमांडेंट अमित कुमार सिंह ने बताया कि सोने व चांदी की तस्करी से संबंधित शिकायत मिल रही है। सीमा पर तस्करी के कई मामले पकड़ में भी आए है। पकड़े गए आरोपितों से हुई पूछताछ में अहम जानकारियां भी मिली है। संकलित सभी सूचनाएं पुलिस को दे दी जाती है। बार्डर पर एसएसबी के जवान अलर्ट हैं।

 

Edited By: Rahul Srivastava