गोरखपुर, जागरण संवाददाता। कुशीनगर जिले के हाटा कोतवाली क्षेत्र में पड़री गांव के टोला मैनपुरवा में एक लोमहर्षक घटना ने पूरे गांव को स्तब्ध व गमगीन कर दिया। बात न मानने पर नशेड़ी पति ने 26 अक्‍टूबर की रात कुल्हाडी़ से गला काटकर पत्नी की नृशंस हत्या कर दी। घटना कारित करने के बाद वह क्षत-विक्षत शव के पास पूरी रात बैठा भी रहा। सुबह पहुंची पुलिस उसे हिरासत में ली और आवश्यक कार्रवाई पूरी की। घटनास्थल से कुल्हाड़ी भी बरामद हुई।

20 साल पहले हुई थी शादी

उक्त गांव निवासी माता-पिता की इकलौती संतान राम सिंह की शादी रीता (36 वर्ष) से बीस वर्ष पहले हुई थी। उनके चार बच्चे रोशनी (16 वर्ष), मोशनी (14 वर्ष), कृष्णा (9 वर्ष) व आदित्य (6 वर्ष) हैं। स्वजन के अनुसार वह पत्नी के साथ कृषि कार्य में हाथ बंटाता था और नशे का आदि था। इसको लेकर पति-पत्‍नी के बीच रोज कहासुनी व विवाद होता था।

बच्‍चों को कमरे में बंद कर पत्‍नी को उतारा मौत के घाट

घटना की रात भी वह नशे की हालत में घर पहुंचा और फिर से पत्नी से कहासुनी हुई। इसके बाद स्वजन भाेजन किए। बच्चे बाबा माधव सिंह (80 वर्ष) के साथ दूसरे कमरे मेें सोने चले गए। राम सिंह ने बच्चों वाले कमरे में ताला बंद कर दिया और खुद पत्नी के कमरे में सोने चला गया। पुलिस के अनुसार योजना के तहत रात लगभग दो बजे उसने कमरे में रखी कुल्हाड़ी से पत्नी के गले पर प्रहार कर दिया, उसके चीखने की आवाज सुनकर अगल-बगल के लोग पहुंचे इससे पहले ताबडतोड़ प्रहार से रीता ने दम तोड़ दिया।

हाथ में कुल्‍हाडी लेकर रात भर शव के पास बैठा रहा आरोपित

प्रभारी निरीक्षक राजेन्द्र सिंह पुलिस टीम के पास पहुंचे तो हत्यारा युवक पत्नी के शव के पास हाथ में कुल्हाड़ी लिए हुए बैठा हुआ था। उसे पुलिस ने बच्चों के कमरे का ताला खुलवाया तो बुजुर्ग पिता ने बताया कि बेटा गांजा, शराब व अन्य नशीली चीजों का आदि था। जिसको लेकर घर में प्राय: झगड़ा, मारपीट होती रहती थी। प्रभारी निरीक्षक ने बताया कि हत्यारे ने पूछताछ में बताया है कि पत्नी मेरी बात नहीं मानती थी, इसलिए मैंने कुल्हाड़ी से गला काट कर हत्या की है। मुझे कोई पछतावा नहीं है।

Edited By: Navneet Prakash Tripathi