गोरखपुर, जेएनएन। Gorakhpur Ramzan Eid Moon Sighting Update: बुधवार को ईद के चांद का दीदार नहीं हुआ इसलिए शुक्रवार को ईद का त्योहार मनाया जााएगा। जबकि गुरुवार को 30वां रोजा रखा जाएगा। पूरे देश में कहीं भी चांद की तस्दीक न होने पर देर शाम मरकजी चांद कमेटी के सदर (पेश इमाम शाही मस्जिद, उर्दू बाजार) मौलाना अब्दुल जलील मजाहिरी ने शुक्रवार को ईद मनाए जाने का ऐलान किया। उन्होंने कोरोना के खतरे को देखते हुए लोगों से मस्जिद के बजाए घरों में ही नमाज पढ़ने की अपील की।

इसके बाद शहर की अधिकांश मस्जदों से भी ईद को लेकर ऐलान किया गया। गोरखपुर एवं बस्ती मंडल में चांद देखे जाने की सूचना यहां की शाही जामा मस्जिद से दी जाती है। देवरिया, बस्ती, संतकबीर नगर, महराजगंज और कुशीनगर के उलमा शाही जामा मस्जिद से चांद की तस्दीक करते हैं। दूसरी तरफ लोगाें ने कोरोना कफ्यू के बावजूद लोगों ने ईद की खरीदारी की। शाहमारुफ, रेती, नखास, इलाहीबाग, जाफरा बाजार, बेनीगंज, रसूलपुर आदि इलाकों में लोगों ने सेवइयां, मेवा, खोआ समेत बच्चों के लिए कपड़े खरीदे।

आसमान पर टिकी रहीं निगाहें, आज रखा जाएगा 30वां रोजा

शाम को इफ्तार करने के बाद रोजेदार चांद के दीदार के लिए छतों पर चढ़ गए। सबकी निगाहें आसमां पर टिकी थी और दिल में बस एक ही ख्वाहिश थी कि ईद का चांद नजर आ जाए, देर शाम तक चांद नहीं दिखा तो लोगों ने दूसरे शहरों में रह रहे दोस्तों व रिश्तेदारों को काल किया, लेकिन कहीं से भी चांद दिखाई देने की बात सामने नहीं आई। ईद का चांद इतना बारीक होता है कि आसानी से नहीं दिखता। इसलिए शहर में कई जगह ईद का चांद देखने के इंतजाम किए गए थे। जहां लोग दूरबीन से चांद देखने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन कामयाबी नहीं मिली। मोहम्मद इस्माइल खान ने बताया कि इससे ज्यादा खुशी की बात क्या होगी कि अल्लाह के नेक बंदों को एक दिन और मिल जाएगा रोजा रखने के लिए।

दुकानें बंद तो ई-कामर्स कंपनियां बनी मददगार

कोरोना कफ्यू केे कारण करीब 18 दिनों से शहर की दवा व किराना को छोड़ अधिकांश दुकानें बंद चल रही हैं। ऐसे में ई-कामर्स कंपनियां लोगों के लिए मददगार साबित हुई। बहुत से लोगों ने इस बार ईद की खरीदारी आनलाइन की। लोगों ने कपड़े, चप्पल, बेडशीड, कप-प्लेट से लेकर खाने-पीने का सामान भी आनलाइन मंगाया। गोरखनाथ की नाजिया ने बताया कि बाजार न जाकर बच्चों के लिए आनलाइन कपड़े और सैंडल मंगवाया। जिंदगी में पहली बार ईद की खरीदारी आनलाइन की। वाजिब दाम पर पसंद के कपड़े मिल गए। सूफियाता के मोहम्मद इश्तेयाक ने बताया कि दुकानें बंद थी इसलिए पत्नी व बच्चों के लिए पहली बार आनलाइन कपड़ा खरीदा। महज 72 घंटे में सामान घर पहुंच गया। ज्यादातर रिश्तेदारों एवं दोस्तों ने भी इस बार ई-कामर्स कंपनियों से ईद की खरीदारी की है।

Edited By: Pradeep Srivastava